रांची: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रयास से झारखंड के 180 प्रवासी मजदूर एयर एशिया की उड़ान से बृहस्पतिवार को सुबह 8:15 बजे मुंबई से वापस रांची आएंगे. राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने इसके लिए ‘एलुमनाई नेटवर्क ऑफ नेशनल लॉ स्कूल’ बेंगलुरू’ के सहयोग की सराहना की है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सोरेन प्रवासी मजदूरों की सहायता के अपने वादे को पूरा करने के लिये कृतसंकल्पित हैं. उन्होंने इसके लिए केंद्र सरकार से कई बार समन्वय भी स्थापित किया.Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि झारखण्ड के कई प्रवासी मजदूर अन्य राज्यों में फंसे है, जहाँ से उन्हें ट्रेन एवं बसों से वापस लाना काफी कठिन हो रहा है. उन सभी जगहों से विशेष उड़ानों के माध्यम से उन्हें रांची लाने की अनुमति दी जाए. प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने विशेष उड़ानों से मजदूरों की वापसी के लिए गृह मंत्री अमित शाह से भी पत्र के माध्यम से आग्रह किया था. Also Read - Jharkhand News: फर्जी भर्ती के खिलाफ कार्रवाई करने पहुंची पुलिस, ग्रामीणों से हिंसक झड़प में लाठीचार्ज

उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में जहां एक ओर झारखंड में रह रहे जरूरतमंदों के रहने-खाने की व्यवस्था की जा रही है, वहीं राज्य के बाहर फंसे लोगों की वापसी के लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं. बता दें कि हेमंत सोरेन लॉकडाउन के बीच मजदूरों की समस्याओं को लेकर सक्रिय हैं. हेमंत सोरेन का कहना है कि वह झारखंड के मजदूरों को कोई परेशानी नहीं होने देना चाहते हैं. Also Read - Mumbai Fire: मुंबई में भाटिया हॉस्पिटल के पास 20 मंजिला इमारत में भीषण आग, 6 की मौत, 28 घायल