लातेहार: झारखंड राज्य के जनपद लातेहार के बालूमाथ थाना क्षेत्र में गाय व्यवसायी मजलूम अंसारी और उनके सहयोगी के 12 वर्षीय बेटे इम्तियाज खान की निर्मम पिटाई करने और पेड़ से लटका कर उनकी हत्या करने के मामले में स्थानीय अदालत ने सभी आठ आरोपियों को दोषी करार दिया है. 17 मार्च 2016 को पशु व्यापारी की हुई थी हत्या, दो साल 9 माह का समय लगा दोष साबित होने में, अब कोर्ट द्वारा सजा सुनाये जाने का इन्तजार है.

स्कूल की दीवार गिरने से दो बच्चों की मौत का मामला: JCB चालक व स्कूल मालिक गिरफ्तार

कल सुनाई जा सकती है सजा
मामले में शुक्रवार को सजा सुनाए जाने की संभावना है. लातेहार अदालत के प्रथम न्यायिक दण्डाधिकारी ऋषिकेश कुमार ने 17 मार्च 2016 की रात झाबर के पास घटे इस दोहरे हत्याकांड के मामले में सुनवाई करते हुए सभी आठ अभियुक्तों को दोषी करार कर दिया है. इसके साथ ही सभी आठ अभियुक्तों मनोज साहू, अवधेश साव, प्रशान्त साव, मिथलेश साव उर्फ बंटी, बिशाल तिवारी, मनोज कुमार साव और अरूण साव को न्यायिक हिरासत में ले लिया गया. अदालत ने सजा पर निर्णय सुरक्षित रखा है.

ये था मामला
17 मार्च 2016 को बालूमाथ थाना क्षेत्र के झाबर और चेताग के बीच में नवादा के पशु व्यापारी मजलूम अंसारी और उसके साथ पशु लेकर जा रहे आराहरा गांव के आजाद खान के पुत्र इम्तियाज खान (12 वर्ष) को इन लोगों ने घेर कर निर्मम तरीके से पीटा था और फिर पेड़ पर लटका कर फांसी दे दी गई थी. 18 मार्च की सुबह 10 बजे तक दोनों शव पेड़ में ही लटके हुए थे. आक्रोशित लोगों और मृतकों के परिजनों व उनके समुदाय के लोगों ने पुलिस को शवों को अपने कब्जे में करने से रोक दिया था. उन लोगों ने खुद शवों को उतारा और अपने साथ लेकर बालूमाथ थाना चौक पहुंचे थे और मार्ग जाम कर दिया था. इन हत्याओं को लेकर उन लोगों के साथ-साथ देश भर में आक्रोश था.

लातेहार हत्याकांड: पशु व्यापारियों के हत्यारों में से 5 गिरफ्तार

एसपी अनूप बिरथरे द्वारा 24 घंटे के अंदर मामले की जांच कर हत्यारों की गिरफ्तारी का वादा भी उन्हें मंजूर नहीं हुआ. पुलिस ने जब शवों को पोस्टमार्टम के लिए अपने कब्जे में करने का प्रयास किया तो वहां पथराव हो गया जिससे एसडीएम सहित कुछ पुलिस अधिकारी और जवान घायल हो गए. भीड़ को तितरबितर करने के लिए पुलिस ने हवा में गोलियां चलाई. उसी रात पुलिस ने पांच लोगों मनोज साहू, प्रशान्त साव, अवधेश साव, मिथलेश साव उर्फ बंटी, मनोज कुमार साव को गिरफ्तार कर 12 घंटे के अंदर मामले का खुलासा कर लिया था. अन्य तीन आरोपियों अरूण साव, सहदेव सोनी और बिशाल तिवारी ने 22 मार्च को अदालत में आत्म सर्मपण कर दिया था. (इनपुट एजेंसी)