नई दिल्ली: झारखंड में सरकार बनाने के लिए झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन की जीत पर विपक्षी दलों ने जनादेश को सीएए और एनआरसी से जोड़ते हुए कहा कि लोगों ने भाजपा के ‘‘अहंकार’’ को ध्वस्त कर दिया जबकि, भाजपा ने कहा कि झारखंड की हार में स्थानीय मुद्दों की भूमिका रही. गठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री उम्मीदवार झारखंड मुक्त मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि चुनावी जनादेश से एक नए अध्याय की शुरूआत होगी जो कि मील का पत्थर होगा. उन्होंने कहा, ‘‘ अभी हम गठबंधन के सभी सदस्यों के साथ बैठेंगे और सरकार बनाने के लिए तथा शासन के लिए रणनीति तैयार करेंगे .’’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को झारखंड में विपक्षी गठबंधन की जीत को ‘निर्णायक जीत’ बताया और सहयोगी दलों, पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को बधाई दी. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘‘झारखंड में हमारे गठबंधन की निर्णायक जीत पर कांग्रेस पार्टी और हमारे गठबंधन सहयोगियों, कार्यकर्ताओं और नेताओं को बधाई.’’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया, ‘‘जनता रोजगार, रोटी, जल, जंगल, जमीन, खेती और व्यापार पर सरकार से सुनना चाहती है. लेकिन, भाजपा ने अपनी फेल राजनीति को छिपाने के लिए फूट डालने की पूरी कोशिश की. उन्होंने ट्वीट में कहा, ‘‘आज जनता का जवाब आया है. महागठबंधन के सभी साथियों को बधाई. हेमंत सोरेन जी को बधाई. कांग्रेस कार्यकर्ताओं को बधाई और प्यार.’’ बहरहाल, झारखंड के निवर्तमान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने चुनावी हार की जिम्मेदारी लेते हुए कहा, ‘‘मेरी व्यक्तिगत हार है. यह भाजपा की हार नहीं है.’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन को राज्य विधानसभा चुनाव में जीत के लिए बधाई दी तथा विजयी गठबंधन को राज्य की सेवा के लिए शुभकामनाएं दीं. गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उनकी पार्टी झारखंड विधानसभा चुनाव के जनादेश का सम्मान करते हुये पार्टी के प्रतिद्वंद्वी गठबंधन से मिली पराजय को स्वीकार करती है. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया कि उनकी पार्टी राज्य की सेवा करती रहेगी और जनकेंद्रिंत मुद्दे उठाती रहेगी.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हेमंत सोरेन को बधाई देते हुए कहा कि लोगों को विश्वास है कि वह उनकी आकांक्षाओं को पूरा करेंगे. बनर्जी ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों के बीच झारखंड के विधानसभा चुनाव हुए थे. उन्होंने झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन के पक्ष में मतदान करने के लिए पड़ोसी राज्य के ‘‘भाइयों और बहनों’’ को शुभकामनाएं दी.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘झारखंड में जीत पर हेमंत सोरेन के झामुमो, राजद और कांग्रेस को बधाई. झारखंड के लोगों ने अपनी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए आप पर भरोसा जताया है. झारखंड के सभी भाइयों और बहनों को मेरी शुभकामनाएं. चुनाव सीएए और एनआरसी विरोध के दौरान हुए. यह निर्णय नागरिकों के पक्ष में है.’’

झारखंड विधानसभा चुनाव के शुरुआती रुझानों में कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) गठबंधन को सत्तारूढ़ भाजपा पर मिलती बढ़त के मद्देनजर सोमवार को राकांपा ने कहा कि प्रदेश के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के ‘‘अहंकार’’ को चूर-चूर कर दिया है.

हाल में राजग का साथ छोड़ने वाली शिवसेना ने भी भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि झारखंड विधानसभा चुनाव के रुझानों ने स्पष्ट कर दिया है कि लोगों को अमित शाह नीत पार्टी की राष्ट्रीय नागरिक पंजी जैसे भावनात्मक मुद्दों पर आधारित राजनीति रास नहीं आ रही है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि झारखंड विधानसभा चुनाव परिणाम एनआरसी और सीएए के खिलाफ निर्णय प्रतीत होते हैं.

आम आदमी पार्टी (आप) प्रमुख ने कहा कि भाजपा के नेताओं ने झारखंड विधानसभा चुनाव के अंतिम दो चरणों में ‘‘जोरदार’’ ढंग से प्रचार किया था और संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के मुद्दे उठाये थे. केजरीवाल ने ट्वीट कर जीत पर हेमंत सोरेन को बधाई दी. इस पर सोरेन ने उनको ‘‘शुक्रिया’’ कहा. उधर, भाजपा प्रवक्ता जी वी एल नरसिंहा राव ने कहा कि भाजपा राज्य में हार का विस्तार से विश्लेषण करेगी लेकिन संयुक्त विपक्ष के खिलाफ गठबंधन नहीं होना भी एक वजह रही.

उन्होंने कहा, ‘‘जनादेश दोबारा से पाने के लिए मतदाताओं को मनाने में स्थानीय नेतृत्व की नाकामी और पार्टी की भीतरी कलह इस हार की बड़ी वजह लगता है. विस्तृत विश्लेषण किया जाएगा.’’ राज्य में भाजपा का चेहरा रहे निवर्तमान मुख्यमंत्री रघुबर दास को पार्टी के बागी सरयू रॉय से चुनौती मिली. राय ने जमशेदपुर पश्चिम से टिकट नहीं मिलने पर भाजपा छोड़ दी थी और जमशेदपुर पूर्वी सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा जहां से दास पांच बार विधायक रहे हैं.

राव ने हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘हमने देखा कि स्थानीय चुनाव तेजी से राज्य सरकार और स्थानीय कारकों से प्रभावित होते जा रहे हैं.’’ कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा, ‘‘हमने लोगों के जीवन को छूने वाले मुद्दे उठाते हुए चुनाव लड़ा. हमें विश्वास है कि हम सरकार बनाएंगे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने असल मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश की, लेकिन लोग उनके साथ नहीं गए.’’

झारखंड के लिए कांग्रेस के समन्वयक अजय शर्मा ने कहा कि यह भाजपा के भ्रष्टाचार और अहंकार की हार है. राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने झारखंड विधानसभा चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) नीत महागठबंधन की जीत पर सोरेन को शुभकामनाएं दी और कहा कि झारखंड की महान जनता ने सुनिश्चित कर दिया है कि अहंकार एवं पाखंड की राजनीति का हर जगह अवसान तय है.

(इनपुट भाषा)