नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को झारखंड में 2,391.36 करोड़ रुपए के मंडल बांध सहित कई परियोजनाओं की नींव रखी. जनसभा को संबोधित करने से पहले मोदी ने यहां ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ के लाभार्थियों में से पांच को उनके मकानों की चाबी सौंपी. मंडल बांध परियोजना से पलामू और गढ़वा जिलों में 19,604 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई में मदद मिलेगी. बांध पर काम 1972 में शुरू किया गया था लेकिन 1993 में इसे रोक दिया गया था. इसे लातेहार जिले के बरवाडीह ब्लॉक में उत्तरी कोयल नदी पर बनाया जाएगा.

पूर्व सरकारों पर कटाक्ष करते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें झारखंड के किसानों के हितों की परवाह नहीं थी, मंडल बांध परियोजना में देरी इसका सबूत है. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हम किसानों को अन्नदाता मानते हैं, पूर्व सरकारों की तरह उन्हें वोट बैंक नहीं समझते कांग्रेस और भाजपा में यही अंतर है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकारों ने समय रहते किसान हितों की परियोजनाओं को पूरा कर दिया होता तो आज किसानों को कर्ज लेने की जरूरत नहीं पड़ती. पहले कांग्रेस सरकारों ने किसानों को कर्ज लेने पर मजबूर किया और आज कांग्रेस कर्जमाफी के नाम पर किसानों को गुमराह कर रही है. देश के उज्जवल भविष्य के लिए देश के किसानों को ताकतवर बनाने की दिशा में हम आगे बढ़ रहें है. हम किसानों और देश की सेवा को अपना धर्म मानकर कार्य कर रहें है.

पीएम ने कहा कि बीच से बाजार तक नई व्यवस्था खड़ी करके हम किसान को सशक्त कर रहें है. हमारी सरकार ने पांच साल से कम समय में 1 करोड़ 25 लाख घर बना कर लोगों को दे दिए है. पहले की योजनाएं जो नामों के आधार पर चली वो आज जमीन पर दिखाई नहीं पड़ती हैं, हमारी सरकार नाम के झगड़ों में ना पड़कर काम करने पर विश्वास करती है.

पीएम मोदी ने कहा कि झारखंड यहां के आदिवासियों, यहां के सामान्य जन के संघर्ष का परिणाम है. ये राज्य आप सभी की आकांक्षाओं का प्रतीक है जिसको अटल जी की सरकार ने सम्मान दिया था, इसके संतुलित और समग्र विकास के लिए केंद्र और झारखंड की सरकारें पूरी ईमानदारी से जुटी हैं. सबका साथ, सबका विकास हमारा मार्ग भी है और लक्ष्य भी.