नई दिल्ली: झारखंड विधानसभा चुनाव की जारी मतगणना में पूर्व मंत्री सरयू राय मुख्यमंत्री रघुबर दास से पहले तीन राउंड में पीछे रह गए थे. लेकिन अचानक मतगणना के चौथे राउंड में सरयू राय मुख्यमंत्री रघुबर दास से 771 वोटों से बढ़त बना ली है. मतगणना के 12वें राउंड अभी भी बाकी हैं. दोनों जमशेदपुर-पूर्वी सीट से चुनाव लड़े हैं.

रघुबर दास इस हॉट सीट से 5 बार के विधायक हैं और उन्होंने 1995 के बाद से इस सीट से कभी चुनाव नहीं हारा. सरयू राय उस समय सुर्खियों में आ गए थे जब उन्होंने रघुबर दास के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया. राय झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले की जमशेदपुर-पश्चिम सीट से टिकट नहीं मिलने के कारण नाराज थे. जिसके बाद उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला किया था. राय के अनुसार, वह आठ साल की उम्र से आरएसएस से जुड़े थे और राजनीति में शामिल हुए. आरएसएस ने उन्हें 1974 में बीजेपी के युवा मोर्चा (BJYM) में भेज दिया था.

बता दें कि सरयू राय को 950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले का खुलासा करने के लिए जाना जाता है. जिसमें बिहार के पूर्व सीएम और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव वर्तमान में जेल में हैं. वह 4,000 करोड़ रुपये के लौह अयस्क खनन घोटाले को उजागर करने में भी सबसे आगे रहे हैं, जिसमें झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा जेल गए थे. राय ने झारखंड की जीवनरेखा कही जाने वाली राज्य की दो प्रमुख नदियों को बचाने और मुक्त करने के लिए दामोदर और सुवर्णरेखा बचाओ अभियान जैसे मिशन भी शुरू किए हैं. वह एशिया के सबसे बड़े साल रिजर्व फॉरेस्ट सारंडा में बायो डायवरसिटी और इको सिस्टम को बचाने के लिए अवैध खनन को रोकने के लिए एक अभियान भी चला रहे हैं.