पटना. राजनीति में अच्छे-अच्छों को पटखनी देने वाले राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के सुप्रीमो लालू यादव आजकल कुत्तों से परेशान हैं. जी हां, चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद रांची के अस्पताल, RIMS में इलाज करा रहे हैं. अस्पताल के सुपरस्पेशियलिटी वार्ड में भर्ती लालू को कुत्तों ने परेशान कर रखा है. अस्पताल परिसर के आसपास रहने वाले कुत्ते रात के वक्त इतने जोर से भौंकते हैं कि लालू यादव की नींद हराम हो जाती है. रिम्स में कुत्तों के अलावा मच्छरों ने भी राजद सुप्रीमो को परेशान कर रखा है. खबर है कि कुत्तों के भौंकने और मच्छरों से परेशान राजद सुप्रीमो अब पेइंग वार्ड में शिफ्ट होना चाहते हैं. पेइंग वार्ड में जाने से उनकी ये सारी दिक्कतें दूर हो जाएंगी. इधर, राजद प्रमुख की इस परेशानी को लेकर राजद की विरोधी पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने कटाक्ष किया है. बिहार में सत्ताधारी जदयू ने कहा कि राजद के शासनकाल में भी बिहार की जनता बहुत डरी हुई थी. ‘बोए पेड़ बबूल का तो आम कहां से हो गए’. Also Read - लालू की जमानत याचिका पर अब 16 अप्रैल को सुनवाई, सीबीआई ने जवाब के लिए समय मांगा

Also Read - Ishrat Jahan Encounter Case: CBI कोर्ट ने मुठभेड़ के 3 पुलिसकर्मियों को आरोप मुक्‍त किया

कुत्तों से परेशानी, डेंगू का डर Also Read - Ishrat Jahan एनकाउंटर मामले सभी आरोपी हुए बरी, कोर्ट ने कहा- आतंकी न होने का सबूत नहीं

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद इस वक्त राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में भर्ती हैं. लालू के करीबी और राजद के विधायक भोला यादव ने रविवार को कहा कि लालू प्रसाद अस्पताल में कुत्तों से ही परेशान हो गए. उन्होंने शिकायत की है कि कुत्तों के भौंकने की वजह से रात में उनकी नींद बार-बार टूट जाती है. उन्होंने रिम्स के नए बने पेइंग वार्ड में खुद को शिफ्ट करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि अस्पताल में मच्छर भी हैं, जिससे उन्हें डेंगू का भय बना रहता है. मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, विधायक भोला यादव ने कहा है कि लालू यादव के कमरे की बाथरूम की स्थिति खराब है. इसी वजह से वे पेइंग वार्ड की मांग कर रहे हैं, ताकि वहां लालू आराम से रह सके और टहल भी सकें. उनका कहना है कि टहलने से लालू का शुगर लेवल भी सामान्य रहेगा. भोला यादव ने बताया कि रिम्स में राजद प्रमुख की सेहत पहले जैसी बनी हुई है.

लंबी चुप्पी के बाद बोले राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद- तानाशाही की ओर बढ़ रहा है देश

जदयू ने लालू को शासनकाल की याद दिलाई

रिम्स में लालू के कुत्तों और मच्छरों से परेशान होने की खबर के मीडिया में आने के बाद बिहार में सत्ताधारी जनता दल यूनाइटेड ने राजद प्रमुख की स्थिति को लेकर तंज कसा है. जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने लालू को उनके शासनकाल की याद दिलाते हुए कहा है कि उनके मुख्यमंत्रित्व काल में बिहार की जनता को डर लगता था. जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने सोमवार को तंज कसते हुए ट्वीट किया, ‘अब देखिए. अभी तक तो अदालत से ही बाहर रहने का गुहार लगा रहे थ़े, अब ‘कुत्ता’ और ‘मच्छर’ से भी डर लगने लगा. महोदय, आपके राज में बिहार की जनता भी बहुत डरी हुई थी. कहावत है न ‘बोए पेड़ बबूल का तो आम कहां से होए.’

100 दिन के बाद किया था सरेंडर

पिछले सप्ताह ही लालू यादव की जमानत बढ़ाए जाने की याचिका ठुकरा दिए जाने के बाद उन्हें फिर से जेल जाना पड़ा था. हालांकि, बाद में उन्हें इलाज के लिए रिम्स भेज दिया गया. चारा घोटाला मामले के दोषी लालू प्रसाद ने अंतरिम जमानत अवधि समाप्त होने के बाद बीते दिनों सीबीआई की कोर्ट के समक्ष सरेंडर किया था. अदालत ने उन्हें करीब 100 दिन के बाद वापस रांची में स्थित बिरसा मुंडा जेल भेज दिया. प्रसाद चारा घोटाला मामलों की सुनवाई कर रही सीबीआई की विशेष अदालतों में पहुंचे और उन्होंने बारी-बारी से चाईबासा कोषागार से लूट के मामले में आदेश देने वाली एसएस प्रसाद की अदालत और फिर देवघर एवं दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामलों में फैसला सुनाने वाली एमपी मिश्रा की अदालत में सरेंडर किया. दोनों अदालतों ने प्रसाद को न्यायिक हिरासत में लेकर वापस बिरसा मुंडा जेल भेजने के आदेश दिए थे. राजद सुप्रीमो के वकीलों ने कोर्ट से अनुरोध किया था कि लालू यादव को इलाज के लिए रिम्स अस्पताल में भर्ती कराया जाए. इसके बाद कोर्ट ने जेल प्रशासन को प्रसाद की सेहत का उचित ख्याल रखने का निर्देश दिया था.

(इनपुट – एजेंसी)