नई दिल्ली. सुरक्षा एजेंसियों ने झारखंड में बीते दिनों वामपंथी उग्रवाद प्रभावित एक इलाके से 15 हथियार और 260 से अधिक कारतूस बरामद करने का दावा किया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीआरपीएफ, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और राज्य पुलिस की एक संयुक्त टीम ने बोकारो जिला के लुगु पहाड़ जंगल इलाके में छापा मार कर हथियारों का एक जखीरा बरामद किया. एक गिरफ्तार नक्सली से इस बारे में सुराग मिला था. यह कार्रवाई मार्च महीने में एनआईए द्वारा दर्ज किए गए मामले से जुड़ा हुआ है. अधिकारी ने बताया कि माओवादियों के ठिकाने पर आज छापा मारे जाने के बाद करीब 10 रायफल, एक कार्बाइन और अन्य तरह की बंदूकें, डेटोनेटर, 269 कारतूस, 12 किग्रा आईईडी और तीन लाख रुपए नकद बरामद किया गया.

सड़क निर्माण कंपनी के कर्मी को मार दी थी गोली
झारखंड में नक्सलियों से प्रभावित इलाकों में कानून-व्यवस्था की स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही है. एक तरफ जहां आए दिन नक्सली वारदातों को अंजाम दे रहे हैं, वहीं दूसरी ओर नक्सलियों द्वारा निर्माण कंपनियों से वसूली किए जाने की घटनाएं भी होती रहती हैं. वसूली न होने पर नक्सली संबंधित कंपनी को अपनी शिकार बनाते हैं, जिसमें किसी निर्दोष की जान चली जाती है. मंगलवार को ही नक्सलियों ने प्रदेश के लातेहार जिले के किता गांव में सड़क निर्माण कंपनी के एक कर्मचारी को गोली मारकर हत्या कर दी. स्थानीय पुलिस के अनुसार मृतक की पहचान मुंशी संजय साव के तौर पर हुई थी. पुलिस ने बताया कि संजय साव जिस कंपनी में काम कर रहे थे, वह किता गांव के पास ही एक सड़क निर्माण कार्य कर रही है. जिले के एसपी प्रशांत आनंद ने बताया था कि प्रथमदृष्टया ऐसा लगता है कि नक्सलियों ने वसूली के लिए ही संजय साव की हत्या की.