रांची: दिल्ली स्थित निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने वालों में झारखंड के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के बेटे मोहम्मद तनवीर का नाम भी सामने आने से राज्य प्रशासन में हड़कंप मच गया है. हालांकि उन्होंने जमात के कार्यक्रम में शामिल होने से इनकार किया है. Also Read - मरकज मामले में मौलान साद से पूछताछ बाकी, कई मामलें हैं दर्ज

प्रशासन ने मंत्री के बेटे को पृथक केंद्र में भेज दिया है वहीं मंत्री और उनके परिवार को घर में पृथक रहने को कहा गया है. दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के कार्यक्रम के बाद कोरोना से संक्रमितों की बढ़ती संख्या व मृतकों की सूचना ने पूरे देश में खलबली मचा दी है. इस कार्यक्रम में झारखंड के 36 लोगों के शामिल होने की पूरी जानकारी केन्द्र सरकार ने झारखंड सरकार को सौंपी है जिसका पुलिस सत्यापन करने के बाद इस बात की पुष्टि हुई. इस सूची में झारखंड सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के बेटे मोहम्मद तनवीर का भी नाम शामिल है. Also Read - CBI ने तबलीगी जमात के नकदी लेन-देन और विदेशी चंदे की प्रारंभिक जांच शुरू की

पुलिस मुख्यालय की विशेष शाखा से सूची मिलने के बाद देवघर पुलिस तनवीर के घर पहुंची और तनवीर को पृथक केंद्र में भेज दिया. उनके नमूने को जांच के लिए रिम्स में भेज दिया गया है. हालांकि पूछताछ में मोहम्मद तनवीर ने जमात में शामिल होने से इनकार किया है और दावा किया है कि 1993 में दिल्ली से शिक्षा पूरी करने के बाद वह कभी दिल्ली गये ही नहीं हैं. दूसरी तरफ मंत्री हाजी हुसैन असांरी व उनके पूरे परिवार को घर में ही पृथक रहने को कहा गया है. अधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि जमात में शामिल राज्य के सभी 36 लोगों का सत्यापन कार्य पूरा हो गया है. Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने कहा- तबलीगी जमात पर फर्जी खबरों के आरोप वाली याचिकाओं में NBA भी बने पक्षकार