जमशेदपुर: जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) अपनी हरित पहल के तहत एक रोचक अभियान चलाएगा. पर्यावरण और धर्म को जोड़ने वाले इस अभियान के अंतर्गत सावन के पवित्र माह में जन्मे शिशुओं के माता-पिता को एक पौधा लगाने और उसका नाम अपने बच्चे के नाम पर रखने का मौका दिया जाएगा. Also Read - कैट का ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान, 9 अगस्त को देश के 600 शहरों में प्रदर्शन

Also Read - World Environment Day 2020 : पर्यावरण संरक्षण के लिए क्या करता है भारत और उसका पड़ोसी देश चीन, पढ़ें यहां

मुरादाबाद में पर्यावरण को लेकर महिलाओं ने दिया अनोखा संदेश, बदन पर पत्तियां लगाकर किया योग Also Read - ‘प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा देकर 50-60 अरब डॉलर का कार्बन क्रेडिट हासिल कर सकता है भारत’

श्रावण मेला के दौरान शुरू किया जाएगा अभियान

जेएनएसी के विशेषज्ञ अधिकारी संजय कुमार पांडेय ने कहा कि यह अनोखा पौधारोपण अभियान श्रावण मेला के दौरान अगले महीने शुरू किया जाएगा, क्योंकि यह लोगों को पर्यावरण संरक्षण के लिए कदम उठाने के लिए प्रेरित करने का सबसे उचित समय होता है क्योंकि इस समय बरसात का सीजन है ऐसे में वृक्षारोपण को सफल बनाने के लिए मौसम अनुकूल होता है. श्रावण मास हिंदू कलेंडर का पांचवां महीना होता है. इस दौरान श्रद्धालु भगवान शिव की पूजा-अर्चना करते हैं.

World Environment Day: इन तरीकों से करें पर्यावरण की रक्षा, तभी सुरक्षित रहेंगे आप और हम

अभिभावकों को मिलेगा प्रशस्तिपत्र

संजय कुमार पांडेय  के मुताबिक, जेएनएसी इस मौके पर 10 रुपये की कीमत पर नवजात बच्चे को जन्म प्रमाण पत्र जारी करेगा. साथ ही पौधारोपण की तारीख और माता-पिता बच्चे को जो नाम देंगे उसकी जानकारी के साथ एक प्रशस्ति पत्र भी देगा. पांडेय ने कहा कि समिति अभियान में भाग लेने वाले माता-पिता को सम्मानित भी करेगी. उन्होंने कहा, कि वो नवजात बच्चों के घर जाकर उन्हें उपहार भेंट करेंगे. प्रतीकात्मक कदम के अलावा यह पहल परिवारों के लिए यादगार साबित होगी. संजय कुमार ने कहा कि जेएनएसी ने अगले महीने 15 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया है. (इनपुट एजेंसी)