रांची: झारखंड राज्य केंद्र सराकर द्वारा दुकानों को खोलने को लेकर दिए गए दिशानिर्देशों को लागू नहीं करेगा. ये जानकारी खुद राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दी है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद शाम को पत्रकार वार्ता में यह घोषणा की. उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि दर्ज की गयी है जिसे देखते हुए फिलहाल यहां बंद में और छूट नहीं दी जायेगी. Also Read - झारखंड में कोरोना वायरस: कोविड-19 संक्रमण के 27 नए मामले, संक्रमितों की कुल संख्या 350 हुई, चार की मौत

हेमंत सोरेन ने सोमवार को कहा, “हमने झारखंड में COVID19 मामलों में वृद्धि के कारण, दुकानों को खोलने को लेकर केंद्रीय दिशानिर्देशों को लागू नहीं करने का फैसला किया है. 3 मई तक राज्य के किसी भी क्षेत्र में कोई भी दुकानें नहीं खुलेंगी. हालांकि, जिन दुकानों को पहले खोलने की अनुमति थी, वे खुली रहेंगी.” Also Read - झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा नहीं लड़ पाएंगे चुनाव, High Court ने खारिज की याचिका

केन्द्र सरकार ने गृह मंत्रालय के एक दिशानिर्देश के तहत 24 अप्रैल की रात्रि में कहा था कि गैर आवश्यक वस्तुओं की दूकानें सामाजिक दूरी के नियमों का ख्याल रखते हुए खोली जा सकती हैं लेकिन उनमें फिलहाल पहले से सिर्फ आधे कर्मचारी ही रखे जा सकेंगे. बाद में स्पष्टीकरण भी दिया गया था कि ऐसी दूकानें जिनमें चाय, नाश्ता आदि की दूकानें भी शामिल होंगी और जिसे एक या दो व्यक्ति ही मिलकर चला रहे होंगे सिर्फ उन्हें ही इस छूट का लाभ होगा.

राज्य सरकार ने लेकिन आज फैसला किया कि फिलहाल केन्द्र सरकार की इस छूट को राज्य में तीन मई तक लागू नहीं किया जायेगा. तीन मई के बाद बंद के बारे में केन्द्र सरकार की नयी रणनीति को देखते हुए इस बारे राज्य सरकार कोई अंतिम फैसला लेगी.

बता दें कि कोरोना वायरस से झारखंड में तीन लोगों की मौत हुई है. वहीं राज्य में वायरस से 82 लोग संक्रमित हैं. हालांकि शनिवार को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्पष्ट किया कि लॉकडाउन की अवधि के बारे में उनकी सरकार पूरी तरह केन्द्र सरकार के दिशा निर्देशों का पालन कर रही है. सोरेन ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि लॉकडाउन की अवधि के मामले में उनकी सरकार पूरी तरह केन्द्र सरकार के साथ रही है और आगे भी उसके दिशा निर्देशों का पालन किया जायेगा.