Covid-19 Case in Karnataka: कर्नाटक में कोरोना वायरस महमारी भयावह रूप ले चुकी है. राज्य में संक्रमण के नए मामलों ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. बुधवार (28 अप्रैल, 2021) को राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस संबंध में अहम जानकारी दी. इसने बताया कि पिछले चौबीस घंटे में प्रदेश में 39,047 नए मामलों की पुष्टि हुई है. नए मामलों के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 14.39 लाख के पार पहुंच गया है. चौंकाने वाली बात है कि कुल संक्रमितों में 22,596 मरीज सिर्फ राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में मिले हैं. संक्रमितों की इतनी बड़ी संख्या से शहर का स्वास्थ्य ढांचा चरमराने लगा है. कर्नाटक में अब तीन लाख से ज्यादा एक्टिव केस हो चुके हैं, जिसमें एक सिर्फ बेंगलुरू में हैं.Also Read - Covid-19 Third Wave: देश में कोविड की तीसरी लहर नहीं आएगी, अगर ये दो काम करें भारतवासी- IIMS चीफ बोले

राजधानी में कोरोना से खराब होते हालात पर हाईकोर्ट ने भी संज्ञान लिया है. इसने एक सुनवाई के दौरान बेंगलुरु की मौजूदा स्थिति को ‘खतरनाक’ बताया है. यहां कोविड-19 मरीजों के लिए बिस्तरों की संख्या मांग के अनुपात नहीं है. इधर राज्य के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने राज्य में कोरोना की चैन तोड़ने के लिए लोगों से कोविड-19 नियमों का पालन करने की अपील की. उन्होंने लोगों से कहा कि वो कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करें Also Read - भारत में हो सकती है खून की कमी, रक्तदान कर बोले सोनू निगम- युवा वैक्सीनेशन से पहले करें ब्लड डोनेट

मालूम हो कि राज्य में महामारी की दूसरी लहर फैलने के बीच 14 दिनों की तालाबंदी मंगलवार रात 9 बजे से शुरू हो गई, जो 12 मई को सुबह 6 बजे तक लागू रहेगी. एक अधिकारी ने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल द्वारा तय किए जाने के बाद 14-दिवसीय तालाबंदी मंगलवार रात से लागू हो गई है और राज्यभर में कोविड के फैलाव की चेन को तोड़ने और कोविड मामलों की संख्या को कम करने के लिए 12 मई की सुबह तक जारी रहेगा. Also Read - Covid-19 Case in Lucknow: मुश्किल हालात में KGMU और RML के ये डॉक्टर बने भगवान! कोरोना मरीजों के आते ही करते हैं मदद

सोमवार को राज्य के मुख्य सचिव पी. रवि कुमार द्वारा एक आदेश में जारी कड़े दिशा-निर्देशों के अनुसार लॉकडाउन लोगों को घर में रहने के लिए मजबूर करेगा, क्योंकि बस, टैक्सी, ऑटो और निजी वाहनों सहित सार्वजनिक परिवहन को संचालित करने की अनुमति नहीं होगी.

आधिकारिक बयान के मुताबिक, लोग 6 बजे से 10 बजे तक 4 घंटे के लिए अपनी दैनिक जरूरतों को खरीदने में सक्षम होंगे. इस दौरान बाजार और दूध, किराने का सामान, अंडे, मछली, मांस, सब्जियां और फलों की दुकानें खुली रहेंगी.

अधिकारी ने कहा कि पुलिस को आपातकालीन उद्देश्यों को छोड़कर सभी प्रकार के वाहनों की आवाजाही को रोकने के लिए निर्देशित किया गया है, जब किसी मरीज को इलाज के लिए अस्पताल ले जाना पड़े. (IANS इनपुट सहित)