कोलकाता. पश्चिम बंगाल के नोआपाड़ा विधानसभा उपचुनाव से पहले बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई को जबरदस्त झटका लगा है. बीजेपी की प्रत्याशी तृणमूल कांग्रेस की पूर्व विधायक मंजू बसु ने उसका पाला छोड़ कर तृणमूल का दामन थाम लिया है. 

भारत की सियासत के लिए अहम है साल 2018, मोदी-राहुल का होगा इम्तिहान

भारत की सियासत के लिए अहम है साल 2018, मोदी-राहुल का होगा इम्तिहान

Also Read - बिहार विधान परिषद जाएंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, बीजेपी ने दिया एमएलसी का टिकट

Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

बीजेपी के केन्द्रीय नेतृत्व ने रविवार शाम उपचुनाव के लिए पार्टी के प्रत्याशी के रूप में मंजू बसु के नाम की घोषणा की थी. इसके कुछ घंटों के बाद, मंजू ने संवाददाताओं को बताया कि वह अभी भी तृणमूल कांग्रेस के साथ हैं. Also Read - Army Day 2021: BJP ने सेना दिवस के अवसर पर साझा किया बेहतरीन वीडियो, दिखा जवानों का पराक्रम

मंजू ने कहा, ‘मैं तृणमूल सुप्रिमो ममता बनर्जी की एक वफादार सिपाही हूं. मैं अभी भी तृणमूल के साथ हूं और ममता बनर्जी में मेरा पूरा विश्वास है.’ बीजेपी के सूत्रों ने बताया कि मंजू ने पार्टी के टोल-फ्री नंबर पर सदस्यता के लिए मिस्ड कॉल किया था. उनके पार्टी से जुड़ने के बारे में कोई अधिकारिक घोषणा नहीं की गयी थी.

तृणमूल के टिकट पर नोआपाड़ा से दो बार विधायक रही मंजू ने मामले पर ज्यादा कुछ नहीं कहा. बस इतना बताया कि बीजेपी के प्रस्ताव को खारिज करने का यह उनका निजी निर्णय है.

उन्होंने कहा, ‘आपको कई राजनीतिक दलों से प्रस्ताव मिल सकते हैं लेकिन इसे स्वीकार करने या नहीं करने का फैसला आपका व्यक्तिगत होता है.’ कुछ महीनों पहले कांग्रेसी विधायक मधुसूदन घोष के निधन के चलते नोआपाड़ा विधानसभा सीट खाली हुयी थी.

यहां उपचुनाव 29 जनवरी को होने वाला है और मतगणना एक फरवरी को होगी.