72nd Republic Day Unknown Facts: गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है. इसी दिन सन् 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था. इस साल देश 72वां गणतंत्र दिवस मनाएगा. एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया था. गणतंत्र दिवस आने में कुछ ही दिन बाकी हैं. ऐसे में आज हम आपको गणतंत्र दिवस से संबंधित कुछ रोचक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं. ये कुछ ऐसे फैक्ट्स हैं जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे. आइए जानते हैं-Also Read - Republic Day 2022: भारत-पाकिस्तान सीमा पर BSF जवान 'हाई-अलर्ट' पर

– 26 जनवरी 1950 को सुबह 10.18 मिनट पर भारत का संविधान लागू किया गया था. Also Read - Delhi Metro का अगले दो दिन का ये प्लान जान लें, वरना होगी भारी परेशानी

– राष्ट्रगान के दौरान 21 तोपों की सलामी दी जाती है. 21 तोपों की ये सलामी राष्ट्रगान की शुरूआत से शुरू होती है और 52 सेकेंड के राष्ट्रगान के खत्म होने के साथ पूरी हो जाती है. Also Read - PMRBP: आज प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं से 'मुलाकात' करेंगे पीएम मोदी

– यह सलामी भारतीय सेना की सात तोपों द्वारा दी जाती है, जिसे पौन्डर्स कहा जाता है. यह तोपें 1941 में बनी थीं. गर तोप से 3 राउंड फायरिंग की जाती है.

– 1955 में पहली बार हुई राजपथ परेड में पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल मलिक गुलाम मोहम्मद चीफ गेस्ट थे.

– पहले गणतंत्र दिवस की परेड मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में आयोजित हुई थी. इसे 15 हजार लोगों ने देखा था.

– भारतीय संविधान की हिंदी और अंग्रेजी में एक क़पी हाछ से लिखकर तैयार की गई थी, जो कि अब संसद की लाइब्रेरी में हैं.

– भारत का संविधान दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान है, जिसे एक दिन में नहीं पढ़ा जा सकता है.

– गणतंत्र दिवस की परेड में एक ईसाई गीत Abide With Me भी गाया जाता है. माना जाता है कि यह महात्मा गांधी का प्रिय गीत था.

– 26 जनवरी, 1950 को पहली गणतंत्र दिवस परेड, राजपथ के बजाय तत्‍कालीन इर्विन स्‍टेडियम (अब नेशनल स्‍टेडियम) में हुई थी. उस वक्‍त इर्विन स्‍टेडियम के चारों तरफ चारदीवारी नहीं थी और उसके पीछे लाल किला साफ नजर आता था.