गर्मियों के मौसम में पूरे दिन AC चलता है. अगर आप ऑफिस में हैं तो बॉडी को एसी में रहने की ऐसी आदत हो जाती है कि ऑफिस से बाहर निकलते ही शरीर तपने लगता है. Also Read - कोरोना से बचने के लिए AC की जगह पंखे लगाने पर विचार कर रही है ये कोर्ट, बनाई गई समिति

लोग घर जाकर शाम से अगले दिन सुबह तक एसी चलाए रहते हैं. पर एसी में इतना रहना कितना सही है? Also Read - GST काउंसिल की बैठक जारी, एसी, वॉशिंग मशीन सहित ये वस्तुएं हो सकती हैं सस्ती

बहुत कम लोगों को पता होगा कि एसी में ज्यादा रहना बीमार भी कर देता है. इससे बुखार से लेकर स्किन प्राब्लम्‍स तक हो सकती हैं. Also Read - एसी से आई मौत, घर में सो रहे पूरे परिवार की चली गई जान

– जो लोग एसी में ज्यादा रहते हैं, एसी के बिना उनका ब्लड प्रेशर लो हो जाता है. कई शोधों में ये बात साबित हो चुकी है.

– एसी में रहने का सबसे बुरा असर ये होता है कि इसकी वजह से पसीना नहीं आता. बॉडी क्लीन करने का नॉर्मल प्रोसेस बाधित होता है.

– इससे स्किन एलर्जी की समस्या भी होती है. स्किन में रुखापन आता है.

– लंबे समय तक हल्का बुखार रहता हो तो इसकी वजह एसी में रहना हो सकता है. इससे थकान की समस्या भी हो सकती है.

– तापमान कम करने से सिरदर्द की समस्या हो सकती है. जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है.

– अस्थमा के मरीजों के लिए एसी में ज्यादा देर तक रहना ठीक नहीं माना जाता. उन्हें सांस संबंधी समस्याएं हो सकती हैं.

– एसी में रहने से शरीर की ऊर्जा की खपत नहीं होती. इससे शरीर की चर्बी बढ़ती है और मोटापा होता है.