भागदौड़ की जिंदगी में हम बाहर का खाना खाते हैं. बेतरतीब तरीके से खाते हैं. फिर एसिडिटी होती है.

एसिडिटी का नाम लेते ही हमारे दिमाग में कई दवाएं आ जाती हैं. एंटी-एसिडिक इन दवाओं को खाकर इस समस्‍या से निजात पा लेते हैं.

ये सब कुछ कितना सरल लगता है. पर ऐसा है नहीं. दूसरी कई एलोपैथिक दवाओं की ही तरह एसिडिटी की दवा का भी हम पर खराब असर होता है.

पिछले कई सालों में देश-विदेश में किए गए शोधों में पता चला है कि एसिडिटी के दवा में जिस ड्रग का यूज होता है, वह बहुत ही हानिकारक होती है.

इस ड्रग का नाम है प्रोटॉन पंप इन्हीबिटरस (PPIs). इससे आपकी किडनी तक खराब हो सकती है.

एक शोध के मुताबिक 2001 से लेकर 2008 तक 70,000 मरीज़ो में से लगभग 27 प्रतिशत लोगों को किडनी संबंधी समस्‍याएं प्रोटॉन पंप इन्हीबिटरस (PPIs) के सेवन से हुई थीं. यह ड्रग इंसान में किडनी कि बीमारी को बढ़ावा देने में 10 प्रतिशत आगे पाया गया.

क्‍या खाएं 

पुदीना: हमारे बुजुर्गों के ज़माने से यह बात कही जाती हैं की पुदीना एसिडिटी दूर करने में सबसे ज़्यादा कारगर है. पुदीना ठंडी तासीर का होता हैं और इसके सेवन से पेट में ठंडक होती है. अगर आपको एसिडिटी हो तो इसकी चाय बना कर पिए बहुत जल्द फायदा होगा.

अदरक: गैस की वजह से पेट दर्द और जी मचलने की शिकायत होती हैैै. ऐसी सूरत में अदरक का सेवन काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. अदरक में दो प्रकार के केमिकल्स जिन्जेरॉल्स और श्गॉल्स पेट की अंदरूनी सफाई करते हैं. यह गैस को दूर रखते हैं और एसिडिटी होने नहीं देते.

जीरा:
जीरा हमेशा ही गैस को दूर करने के लिए खाया जाता हैं. गर्भवती महिलाओं को भी यह दिया जाता है. जीरे को भूनकर उसका पाउडर बनाकर पानी में घोलकर पीने से पेट दर्द या एसिडिटी पर तुरंत आराम मिलता है.