नई दिल्ली: अक्षय तृतीया के दिन सोने की खरीदारी शुभ मानी जाती है. ऐसा कहा जाता है अक्षय तृतीया के दिन सोने की खरीदारी ना केवल घर में शुभता लाती है, बल्कि घर में लक्ष्मी का वास होता है. Also Read - कमर में छिपाए हुए थे 28 करोड़ रुपए का 55.61 किलो विदेशी सोना, दिल्‍ली, लखनऊ में किया जब्‍त

Also Read - Gold Price Today 16 January 2021: सोने के दाम आई तेजी, चांदी भी चमकी, सस्ता गोल्ड लेने का जा सकता है मौका, जानें 10 ग्राम सोने का भाव

महत्व  Also Read - Gold Price Today 12 January 2021: सोना फिर हुआ सस्ता, 50 हजार से नीचे पहुंची कीमत, जानें क्या है 10 ग्राम Gold का आज का ताजा भाव

पुराणों के अऩुसार विष्णु जी के परशुराम अवतार का जन्म अक्षय तृतीया के दिन ही हुआ था. अक्षय तृतीया के दिन ही भगवान विष्णु के अवतार नर-नारायण और हयग्रीव का अवतरण हुआ था. वैशाख के महीने में अक्षय तृतीया मनाई जाती है. यह भी मान्यता है कि इसी दिन वेद व्यास और भगवान गणेश ने महाभारत का लेखन शुरू किया था. ऐसी भी मान्यता है कि इसी दिन महाभारत युद्ध समाप्त भी हुआ था. अक्षय तृतीया के दिन द्वापर युग खत्म हुआ था.

अक्षय तृतीया के महत्व का अंदाजा इस बात से भी आप लगा सकते हैं कि आज के दिन ही बद्रीनाथ मंदिर के कपाट खुलते हैं और वृन्दावन के श्री बांके बिहारी जी मंदिर में सम्पूर्ण वर्ष में केवल एक बार, अक्षय तृतीया पर ही श्री विग्रह के चरणों के दर्शन होते हैं.

यह भी पढ़ें: Akshay Tritiya 2018: राशि अनुसार करें यह उपाय, बनेंगे मालामाल

सोने की खरीदारी करते वक्त इन बातोंं का रखें ध्यान  

1. अक्षय तृतीया के दिन दुकानों में बहुत भीड़ होती है. इसलिए आपको गहनों को परखने का वक्त हो सकता है कम मिले. इसलिए जितना वक्त मिले उसमें अपने गहनों की परख अच्छी तरह कर लें. कहीं कोई डिफेक्ट तो नहीं.

2. निवेश के लिहाज से खरीदारी कर रहे हैं या अक्षय तृतीया के दिन शुभ फल प्राप्त करने के लिए. दोनों ही सूरत में स्टडेड ज्वेलरी ना खरीदें. रत्न जड़ित गहनें खूबसूरत तो लगते हैं, लेकिन उनकी कीमत खालिस स्वर्ण गहनों के मुकाबले बढ़ जाती है, क्योंकि उसमें पत्थरों की कीमत भी सोने के बराबर ही आंकी जाती है.

3. सोने की खरीदारी हमेशा ऐसी दुकान से ही करें, जो आपके घर के पास हो और जिससे आपकी अच्छी पहचान हो.

4. सोना हमेशा हॉलमार्क ही लें. चाहे वह नाक का कोका ही क्यों ना हो. क्योंकि हॉलमार्क गहनों में डेप्रिशिएशन चार्ज नहीं लगाया जाता.

अक्षय तृतीया 2018: क्या इस त्योहार से जुड़ी ये 7 बातें जानते हैं आप

5. सोने की कीमत भी अलग-अलग दुकानों में भिन्न हो सकती है. क्योंकि सोने की कीमत इस बात पर निर्भर करती है कि उसमें कितना पीतल मिलाया गया. कितने कैरट सोने का इस्तेमाल किया गया है और उसका मेकिंग चार्ज व जीएसटी कितना लगाया गया है. इन सारी चीजों का कैलकुलेशन कर लें.

6. 24 कैरट का सोना सबसे शुद्ध माना जाता है. लेकिन इसका गहना बनाना संभव नहीं है. इसलिए आमतौर पर ज्वेलर्स 22 कैरट या इससे कम कैरट सोने का इस्तेमाल करते हैं. सोना जितना कम कैरट का होगा, उसमें उतनी ज्यादा मिलावट होगी. सोने के गहनों में आमतौर पर तांबा, पीतल, चांदी और  जस्ता व कैडमियम मिलाया जाता है.

 

खरीदारी के लिए शुभ मुहूर्त:

वैसे तो अक्षय तृतीया खुद में इतना शुभ होता है कि आप पूरे दिन खरीदारी कर सकते हैं. लेकिन इसमें भी सुबह 05:56 से दोपहर 12:20 तक खरीददारी करने का सबसे शुभ मुहूर्त है.