नई दिल्‍ली: आजकल की ज़्यादातर जॉब्स में घंटों कम्प्यूटर के सामने बैठना पड़ता है. जो कि सेहत के लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है. इससे आपके शरीर के कई अंगों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. साथ ही कम्प्यूटर से निकलने वाली हानिकारक किरणें आपकी आँखों को नुकसान पहुँचाती हैं और गलत तरीके से बैठने के कारण आपके पीठ में दर्द हो सकता है. इसके अलावा अनिद्रा, तनाव, ब्लड प्रेशर की समस्या भी एक ही जगह बैठकर काम करने से हो सकती है. इसके अलावा घंटों बैठे रहना सेहत के साथ-साथ दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकता है.

Health Tips: अगर आपने खरीदे हैं नए कपड़े तो बड़े काम की है ये खबर, नहीं तो होंगे बीमार

एक रिसर्च में कहा गया है कि आलस हो या मजबूरी, घंटों बैठे रहने से दिमाग सिकुड़ने लगता है, जिससे भविष्य में अलजाइमर्स की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है. विशेषज्ञों का कहना है ज्यादातर समय बैठकर बिताना हमें बुद्धू बना सकता है. अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी के रिसर्च में देखा कि आरामतलब जिंदगी जीने वालों का मस्तिष्क सिकुड़ जाता है. पूर्व में हुए अध्ययनों में भी कहा गया है कि नियमित रूप से लंबे समय तक बैठे रहने से दिल की बीमारियों, डायबिटीज और कई तरह के कैंसर का खतरा होता है.

Tips: सर्दियों में बनानी है सेहत तो करें इन फलों और सब्जियां का सेवन

ज्‍यादा देर बैठने से हो सकती है ये बीमारी
विशेषज्ञ मानते हैं कि घंटों बैठकर काम करना या कई घंटे रोजाना बाइक चलाना पाइल्स की चपेट में ला सकती है. पाइल्स यानी बवासीर के रोगियों की बढ़ती रफ्तार इसे पुख्ता कर रही है. निजी और सरकारी अस्पताल में भी रोज चार दर्जन से अधिक केस पहुंच रहे हैं. इनमें सर्वाधिक संख्या युवाओं की है.

लगातार बैठने से ये भी  होगा नुकसान

पैर और बाँहों पर असर
पैरों के सुन्न होने का कारण रक्त प्रवाह कम होने लगता है. इसके कारण नाड़ियों को नुकसान पहुँचता है. लम्बे समय तक बैठे रहने से नाड़ियों पर दबाव पड़ता है. इसके अलावा बांहों पर भी असर पड़ता है. शारीरिक गतिविधि की कमी से हाई बीपी या हाइपरटेंशन की समस्या हो सकती है.

फेफड़े और हार्ट पर असर
लगातार बैठकर काम करते हैं तो आप में पल्मोनरी एम्बोलिज्म यानी लंग में खून के थक्के जमने की आशंका दोगुनी हो जाती है. इसका असर दिल पर भी पड़ता है.

Tips: योग करने से तेजी से सामान्य हो सकता है शुरुआती स्तर का हाई ब्‍लड प्रेशर

उंगलियों में समस्या
कम्प्यूटर के की-बोर्ड पर घंटों टाइप करने से उँगलियों और कलाई में दर्द होता है. इसके कारण आपका हाथ भी प्रभावित हो सकता है. तेजी से एक ही जगह पर कलाई रखकर की-बोर्ड पर काम करने से उँगलियों में सूजन, दर्द, झुनझुनी की समस्या होती है.

आंखों को नुकसान
कई घंटों तक कम्प्यूटर स्क्रीन से सामने लगातार बैठकर काम करने से आंखों को नुकसान पंहुचता है. क्योंकि कम्प्यूटर स्क्रीन से निकलनी वाली नीली तरंगें आपकी आंखों को नुकसान पहुँचाती हैं.

पीठ और पेट पर असर
लम्बे समय तक बैठे रहने से रीढ़ की हड्डी पर सबसे ज़्यादा दबाव पड़ता है. रीढ़ में संकुचन पैदा होने लगता है क्योंकि दबाव के चलते मांसपेशियां हार्ड हो जाती हैं. ऐसे में एकदम उठना चोट का कारण बन सकता है. पीठ के साथ पेट पर भी लगातार बैठने का बुरा असर पड़ता है.

सिर और गर्दन
लम्बे समय के लिए बैठे रहने से ख़ून के थक्के बन सकते हैं, जो दिमाग़ तक पहुँच कर स्ट्रोक का कारण बन सकते हैं. साथ ही यह गर्दन को भी नुकसान पहुँचाता है. दिन भर के दौरान टांगों में इकट्ठा हुआ तरल गर्दन तक चला जाता है, जिसके चलते स्लीप एप्निया जैसी समस्या हो सकती है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.