अक्‍सर लोग गुस्‍सा करते हैं तो थोड़ी देर में शांत भी हो जाते हैं. मगर जिन लोगों को बार-बार गुस्‍सा आता है, उसका सेहत से क्‍या संबंध है? Also Read - कोरोना के डर से मुंबई की सड़कों पर अपने पालतू जानवर छोड़ने लगे लोग, सोनाक्षी ने लगाई फटकार

दुख और क्रोध जैसे नकारात्मक भाव, सूजन एवं जलन के बढ़े हुए स्तर से संबंधित हैं और ये खराब सेहत का संकेत हो सकते हैं. एक अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है. Also Read - Bigg Boss 13: जूते, घर का किराया, परफ्यूम खरीद कर देती रही आकांक्षा पुरी, पारस ने कहा-चिपकने वाली लड़की?

अमेरिका के पेनसिल्वानिया स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि समय-समय पर एक दिन में मापी गई नकारात्मक मनोदशा सूजन एवं जलन बायोमार्कर के बढ़े हुए स्तर से जुड़ी हुई होती है. Also Read - अखिलेश यादव को आया डॉक्टर पर गुस्सा, बोले- तुम बहुत छोटे अधिकारी हो, यहां से भाग जाओ

यह अध्ययन पूर्व में हुए शोध का विस्तार है जिसमें देखा गया था कि क्लीनिकल अवसाद एवं शत्रुता का संबंध जलन से होता है. लंबे समय तक जलन या सूजन होने से मधुमेह, ह्रदयवाहिनी एवं कुछ तरह के कैंसर समेत कई बीमारियां हो सकती हैं.

यह अध्ययन ‘ब्रेन, बिहेवियर एंड इम्युनिटी’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.