Corona Ayurveda Kit: हमारे देश में लंबे समय से आयुर्वेद का प्रयोग विभिन्न बीमारियों के इलाज में किया जाता रहा है. ईलाज की इस पद्धति पर लोग काफी भरोसा करते हैं. कोरोना के इस समय में भी आयुर्वेद के माध्यम से लोग इम्युनिटी बढ़ा रहे हैं. Also Read - Kaun Banega Crorepati 2020 Date and Time: पिछले तीन सालों से एक ही तरह का सूट पहन रहे हैं बिग बी, आखिर बात क्या है?

बाजार में आयुर्वेदिक किट खूब बिक रही हैं और लोग इनका सेवन भी कर रहे हैं. अब उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इसकी उपयोगिता पर मुहर लगा दी है. Also Read - Corona Warriors: 50 साल की नर्स मुमताज बेगम किडनी की मरीज, हुआ था कोरोना, ठीक हो फिर काम पर लौटीं...

यही वजह है कि उत्तर प्रदेश स्टेट आयुष सोसायटी कोरोनावायरस महामारी से लड़ने के लिए चार आयुर्वेद दवाओं की एक किट दे रही है. आयुष सोसायटी ने कहा है कि इस किट का निर्माण केंद्रीय आयुष मंत्रालय के निर्देश पर किया जा रहा है. Also Read - अच्छी खबर! कोरोना और डेंगू से जूझ रहे दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की हालत अब बेहतर

इसका प्रयोग कोरोना मरीजों के साथ-साथ संक्रमण के लक्षण वाली अन्य बीमारियों में भी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए किया जा सकता है. इस किट में आयुष-64 टैबलेट, संशमनी वटी, अणु तेल और अगस्त्य हरितकी शामिल हैं.

आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. निरंकार गोयल ने कहा कि आयूष -64 और संशमनी वटी सभी प्रकार के बुखार को ठीक कर सकते हैं.

संशमनी वटी वायरस के संक्रमण के लिए प्रभावी उपाय है. अणु तेल के एक बूंद को दोनों नासिका छिद्रों में डालने से बंद नाक खुल जाती है, गले का संक्रमण और आंखों की समस्या ठीक हो जाती है. अगस्त्य हरितिकी अवलेह सांस लेने की समस्याओं, टीबी, अस्थमा और बुखार को ठीक करता है.

दवाओं का पहले ही परीक्षण किया जा चुका है. डॉक्टर के मार्गदर्शन के अनुसार, उन्हें सात दिनों के लिए लिया जाना चाहिए.
(एजेंसी से इनपुट)