नई दिल्ली: बच्चों की त्वचा काफी कोमल होती है जिसके चलते उनका खास ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है. छोटे बच्चे टॉयलेट बहुत ज्यादा करते हैं जिसके चलते लोग आम तौर पर बच्चों को डायपर पहनाते हैं. लेकिन की बार डायपर पहनने के कारण बच्चों में रैश की समस्या होने लगती है. और यह समस्या काफी बढ़ भी सकती है. इससे उन्हें रेडनेस, जलन और दर्द होता है. ऐसे में अगर आपके बच्चे को भी डायपर के इस्तेमाल से रैश की समस्या होती है तो आज हम आपको कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जिससे आप उनका ख्याल रख सकते हैं.

– एक बात का ख्याल रखें कि हर टाइम डायपर का हर टाइम इस्तेमाल ना करें. आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि दिन का कुछ समय बच्चा डायपर के बिना ही बिताएं. इससे उसकी स्किन को सूखने और हील होने में मदद मिले.

– बच्चे को डायपर रैश हो गए हैं तो आप उसे टाइट कपड़े पहनाने से बचें. इस दौरान बच्चे को कॉटन के लूज कपड़े पहनाए. इससे दानों को सूखने में मदद मिलती है और त्वचा को सांस लेने का मौका मिलता है.

– जब भी बच्चे का डायपर उतारे तो स्किन को अच्छे से कोमल हाथों से क्लीन करें. और कुछ देर के लिए सूखने दें और कुछ देर बाद ही डायपर पहनाए. बच्चे के वाइप्स का चयन करते समय देखें कि उनमें फ्रेगरेंस व अल्कोहल ना हो.

– डायपर रैश के इलाज के लिए आप नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं. नारियल के तेल में एंटीफंगल और रोगाणुरोधी गुण होते हैं. नारियल तेल एक बेहतरीन मॉइस्चराइजर के रूप में काम करता है. आप नहाने के पानी में भी नारियल तेल की कुछ बूंदे डाल सकते हैं.

– डायपर के रैश से बचाने के लिए आप बच्चों की स्किन पर पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. आप जब भी बच्चों का डायपर चेंज करें तो उनकी स्किन पर पेट्रोलियम जेली की एक थिन लेयर लगाएं. पेट्रोलियम जेली बच्चे के डायपर एरिया पर यूरिन के इरिटेटिंग इफेक्ट को कम करता है.