माता-पिता नहीं रखते अपने बच्चे का ये नाम, महाभारत-रामायण से जुड़ा है राज

Baby Name Ideas 2022: अकसर माता-पिता अपने बच्चे का नाम महाभारत-रामायण से जुड़े पात्र पर रखते हैं. लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि किन पात्रों पर माता-पिता अपने बच्चों के नाम रखने से कतराते हैं. जानते हैं कारण...

Updated: April 28, 2022 10:45 AM IST

By Garima Garg

माता-पिता नहीं रखते अपने बच्चे का ये नाम, महाभारत-रामायण से जुड़ा है राज

Baby Name Ideas 2022: कुछ हिंदू परिवारों में आज भी बच्चे का नाम उनके सही अर्थ के साथ साथ पौराणिक पात्रों के अनुसार भी रखने की परंपरा है. हालांकि, अब इस परंपरा में बदलाव आ गया है. हमारी पौराणिक कथाओं में कुछ ऐसे पात्र हैं, जिनके नाम पर अपने बच्चे का नाम नहीं रखा जा सकता. माता-पिता उन नामों पर अपने बच्चे का नाम रखने से कतराते हैं. आज का हमारा लेख इसी विषय पर है. आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि माता-पिता क्यों कुछ नामों पर अपने बच्चों के नाम नहीं रखते. पढ़ते हैं आगे…

Also Read:

द्रौपदी का नाम

द्रौपदी एक राजकुमारी होने के साथ-साथ पतिव्रता स्त्री भी थी. लेकिन माता-पिता द्रौपदी का नाम रखने से इसलिए कतराते हैं क्योंकि द्रौपदी ने पांच पांडवों के साथ विवाह किया था.

शकुनि का नाम

महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक पात्र शकुनि भी था. माता पिता अपने बच्चे का नाम शकुनि इसलिए नहीं रखते क्योंकि इन्होंने घृणा और प्रतिशोध के चलते कुरुवंश में दरारें पैदा कर दी थीं, जिसके कारण कुरुवंश का नाश हो गया था. इसी के चलते माता-पिता शकुनि नाम रखने से कतराते हैं.

सुग्रीव का नाम

रामायण से जुड़े ये पात्र राम भक्त थे. लेकिन ये अपने भाई की मृत्यु का कारण बने. इसी वजह से माता-पिता अपने बच्चे का नाम सुग्रीव रखने से कतराते हैं.

विभीषण का नाम

रामायण के पात्र विभीषण रावण परिवार से थे. लेकिन उनका सरल स्वभाव और चेहरे का तेज देखने योग्य था. माता पिता अपने बच्चे के नाम विभीषण रखने से इसलिए कतराते हैं क्योंकि उन्होंने अपने भाई रावण की मृत्यु का रहस्य श्रीराम को बताया था. इसलिए उन्हें घर का भेदी माना जाता है.

अश्वत्थामा का नाम

अश्वत्थामा एक योद्धा थे. लेकिन अपने बुरे कार्यों के लिए उन्हें श्रीकृष्ण से सदियों तक पीड़ा झेलने का श्राप मिला था. इसलिए माता-पिता अश्वत्थामा नाम रखने से कतराते हैं.

कैकई का नाम

कैकई का संबंध राज परिवार से था. लेकिन उन्होंने नौकरानी की सलाह पर परिवार के सदस्यों में भेदभाव किया. यही कारण है कि माता-पिता अपने बच्चे का नाम कैकई रखने से डरते हैं.

नोट – इस लेख में दी गई जानकारी मान्यताओं और सूचनाओं पर आधारित है. india.com इसकी पुष्टि नहीं करता है. अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से संपर्क करें.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें लाइफस्टाइल की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: April 28, 2022 10:43 AM IST

Updated Date: April 28, 2022 10:45 AM IST