शायद आपको जमीन पर बैठकर खाना खाना पुराना स्‍टाइल लगता हो, पर ये परंपरा ऐसी है जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद है.

इस तरह खाने से शरीर चुस्‍त-दुरुस्‍त और फिट रहता है.

– जमीन पर बैठकर खाने से रीढ़ की हड्डी और पीठ से जुड़ी समस्याएं नहीं होतीं. कमर, कूल्‍हों और घुटनों की एक्‍सरसाइज हो जाती है.

– अगर आप दिल के मरीज़ हैं तो आपको आज ही नीचे बैठकर खाना खाना शुरू कर देना चाहिए. असल में, खाना जब जमीन पर बैठकर खाया जाता है तब खून का संचार दिल तक आसानी से होता है.

– जमीन पर बैठकर खाने से कूल्हे के जोड़, घुटने और टखने लचीले बनते हैं. इस लचीलेपन से जोड़ों की चिकनाई बनी रहती है, जो आगे चलकर उठने-बैठने की दिक्कत को आने नहीं देती.

– जब आप नीचे बैठकर खाना खाते हैं तो आप जिन दो पोज़िशन में बैठते हैं वो या तो सुखासन होती है या पदमासन. ये दोनों आसन पाचन क्रिया को बेहतर बनाते हैं.

– जमीन पर बैठकर खाना धीरे-धीरे खाया जाता है. इससे कम मात्रा में खाना खाया जाता है और यह शरीर के लिए बहुत ही अच्छा है. साथ ही, इससे अधिक कैलोरी नहीं ले पाते. इससे आप ओवरईटिंग से भी बच जाते हैं.