ब्रिटिश राज ने भारत पर राज कर न सिर्फ यहां हुकूमत स्थापित की बल्कि हमारी संस्कृति से भी भारतीयों को दूर कर दिया. यह बात सही है कि अंग्रेजों ने भारत में विकास के कई कार्य किए लेकिन वे कार्य तत्कालीन समय में ब्रिटिश राज की जरूरत थे. हम जितना आधुनिकता की तरफ बढ़ते जा रहे हैं उतनी ही तेजी से अपने कल्चर और सभ्यता से दूर होते जा रहे हैं. सुबह उठने के साथ ही हम खान से लेकर सोने तक की सारी दिनचर्या अंग्रेजों की कॉपी करते हैं. इन सबके के बीच राहत देने वाली खबर यह है कि दुनिया धीरे-धीरे अब भारत और उसे जुड़ी चीजों को खुलकर अपना रही है. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप पत्‍नी के साथ पहुंचे आगरा, ताज का दीदार कर लिखे तारीफ में ये शब्‍द

खाना इंसान के जीवन में एक अहम भूमिका निभाता है. अगर खाना खाने के लिए कहा जाए तो सबसे पहले आपके जहन में क्या आता है? जाहिर सी बात है खाना खाने के नाम पर हम सभी के मन में सब्जी, रोटी, चावल और भी अन्य पकवान से भरी थाली की छवि बन जाती है. रेस्टोरेंट की बात छोड़िए, आज के मौजूदा समय में हम सभी चम्मच और कांटे से खाने के शौकीन हो गए हैं. यह पद्धति के बढ़ने के पीछे आधुनिकता नहीं बल्कि पश्चिम को अंधाधुंध नकल करना है. Also Read - महिलाओं में फर्टिलिटी बढ़ाती हैं ये 5 चीजें, डाइट में जरूर करें शामिल

Clark-Kim-Kays-1483510097 Also Read - 'बिग बॉस' का संत समाज ने किया विरोध, कहा- महिला और पुरुष का बेड शेयर करना हिंदू धर्म पर हमला

अब हाथ से खाना खाने की ही बात कर लीजिये. हम घर पर भले ही घर पर दाल-चावल या इडली-डोसा खाते हों, पर दफ़्तर और रेस्त्रां में हम इच्छा-अनिच्छा से ही छुरी-कांटा उठा लेते हैं. जबकि छुरी-कांटे से डोसा खाना मुश्किल है, तब भी हम उसे काने की कोशिश करते हैं. जिन्हें कांटे से खाने की आदत है, उनके लिए तो ये आसान है और जिन्हें नहीं है, वो ये मानकर चलते हैं कि बाहर छुरी-कांटे से ही खाना खाया जाता है.

इस सबके बीच हाथ से खाने की आदत के फोयदों को तवज्जो देते हुए कुछ विदेशी रेस्त्रां हाथ से खाने की आदत को बढ़ावा रहे हैं. न्यूयॉर्क, कैंब्रिज, सेन फ्रैंसिसको के कुछ रेस्त्रां अपने ग्राहकों को हाथ से खाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. यह थोड़ा अजीब है, पर सच है. ये रेस्त्रां पहले छुरी-फॉर्क को तरजीह देते थे, पर अब हाथ से खाने की तरफ मुड़ते दिख रहे हैं. लिहाजा कहा जा सकता है कि इन्होंने हाथ से खाने के फायदों को पहचाना है.

sret1 copy

इस बदलाव के बाद पश्चिम को पूर्व के नक्शे कदम पर चलते देखा जा सकता है. हम लोगों की सबसे बड़ी कमी है कि हम विदेशी सभ्यता को कूल और अच्छा मानते हैं और अपने कल्चर को कमतर आंकते हैं. उदाहरण के तौर पर हल्दी वाला दूध अब पश्चिम देशों में Turmeric Latte नाम से बेचा जाता है और पसंद भी किया जा रहा है. इसके उलट बात करें तो हम हल्दी वाला दूध छोड़, एलोपैथी पद्धति की तरफ भागते हैं.

हाथ से खाना खाने के फायदे

– हाथ की ऊंगलियों और हथेलियों में पाए जाने वाले कुछ जीवाणु पाचन क्रिया में सहायक होते हैं.
-Type 2 मधुमेह रोकने में सहायक
-आप अपने निवाले का आकार खद तय कर सकते हैं और इस तरह आप ज्यादा नहीं खाएंगे.
-हाथ से खाना एक प्रकार की व्यायाम भी है.
-इसके अलावा सिर्फ भारतीय ही नहीं, अफ्रीकी और मिडल ईस्ट संस्कृतियों में भी लोग हाथ से ही खाना खाने लगे हैं.