काली मिर्च को किंग ऑफ स्पाइस के नाम से भी जाना जाता है. काली मिर्च में एंटी बैक्टेरियल गुण होते हैं यह शरीर को बीमारियों से बचाती है. जानें इसके बेजोड़ फायदे

– खांसी-जुकाम और सर्दी होने पर कालीमिर्च के सेवन से तेजी से फायदा होता है. काली मिर्च की तासीर गर्म होती है जो सर्दी से बचाती है. सर्दी, जुकाम-खांसी होने पर 8-10 काली मिर्च, 10-15 तुलसी के पत्ते मिलाकर चाय बनाकर पीने से आराम मिलता है. खांसी में काली मिर्च, पीपल और सोंठ बराबर मात्रा में पीस लें, तैयार 2 ग्राम चूर्ण शहद के साथ दिन में 2-3 बार चाटें. 4-5 काली मिर्च के दाने करीब 15 दाने किशमिश के साथ खाने से खांसी में लाभ होता है.

इन सब्जियों से बनाएं फेसपैक, चेहरे पर लगाएं, फेयरनेस क्रीम से ज्यादा निखार पाएं…

ek_black-pepper-1

– नाक में एलर्जी होने पर 10-10 ग्राम सोंठ, काली मिर्च, पिसी इलायची और मिश्री को पीसकर चूरन बना लें. इसमें बीज निकला 50 ग्राम मुनक्का और तुलसी के 10 पिसे पत्ते डालकर अच्छी तरह मिला लें. इस मिश्रण की 3-5 ग्राम की गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें और सुबह-शाम 2-2 गोलियां गर्म पानी के साथ लें.

– काली मिर्च को घी और मिश्री के साथ मिलाकर चाटने से बंद गला खुल जाता है और आवाज सुरीली हो जाती है. आठ-दस काली मिर्च पानी में उबालकर इस पानी से गरारे करें, इससे गले का संक्रमण भी खत्म हो जाएगा.

– काली मिर्च में मौजूद पिपेरीन के कारण रक्तसंचार बढ़ता है. इससे मांसपेशियों के दर्द से निजात मिलता है. तेल को हल्का गर्म कर के उसमें काली मिर्च मिलाएं और पीठ और कंधों की इससे मालिश करें. गठिया रोग में भी काली मिर्च काफी फायदेमंद साबित होती है.

– काली मिर्च के कारण पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड ज्यादा पैदा होता है, जो पाचन में मददगार होता है. यूनानी मतानुसार काली मिर्च के सेवन से पेट दर्द, बदहजमी, कब्ज और एसिडिटी में लाभ होता है. पेट में गैस की समस्या होने पर एक कप पानी में आधा नींबू का रस, आधा चम्मच पिसी काली मिर्च और आधा चम्मच काला नमक मिलाकर पीएं. कब्ज होने पर 4-5 काली मिर्च के दाने दूध के साथ रात में लेने से आराम मिलता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.