अल्‍जाइमर ऐसी बीमारी है जिसकी पहले से जांच करने की अब तक कोई ठोस तकनीक विकसित नहीं की जा सकी थी. पर वैज्ञानिक इस दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं. उन्‍होंने ऐसे ब्‍लड टेस्‍ट का पता लगाया है जो पहले से ही इस बीमारी के होने का संकेत दे देगा. Also Read - World Alzheimer Day 2020: विश्व अल्जाइमर दिवस आज, जानिए किन लोगों में होती है भूलने की बीमारी और क्या है इसके लक्षण

Also Read - World Alzheimer Day 2020: हमेशा रहते हैं चिड़चिड़ेपन और भूलने की बीमारी से परेशान, तो हो सकते हैं अल्जाइमर के शिकार

Vitamin D की कमी से होती है ये मानसिक बीमारी, वैज्ञानिकों ने कही ये बात… Also Read - वैज्ञानिकों ने तैयार की नई दवा, इसके सेवन से नहीं होगा अल्जाइमर

पुरानी तकनीक क्‍या है?

अल्जाइमर बीमारी के बारे में मस्तिष्क के स्कैन और सेरीब्रोस्पाइनल तरल के परीक्षण से पता लगाया जाता है. यह तरल मेरूदंड में सूई डाल कर निकाला जाता है. यह प्रक्रिया खर्चीली होती है, लेकिन यह रोगी की हालत के बारे में सटीक जानकारी देती है.

ek_alzhimer

नई तकनीक

अमेरिका के बर्मिंघम एडं विमन्स हॉस्पिटल के अनुसंधानकर्ता, खून की ऐसी जांच विधि विकसित करने की दिशा में काम कर रहे हैं जो इस कष्टदाई प्रक्रिया का स्थान ले सके.

इस कारण बढ़ रहा है महिलाओं में Breast Cancer का खतरा, कैसे बचेंगे?

कैसी होगी ये तकनीक

अस्पताल से डोमिनिक वाल्श ने कहा, ‘अल्जाइमर की बीमारी के लिए रक्त परीक्षण आसानी से और अनेक बार दफ्तर के प्राइमरी केयर में ही किया जा सकता है. इसके लिए अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है’. उन्होंने कहा, ‘हमारे परीक्षण को और लोगों पर कर उसे सत्यापित करन की जरूरत है लेकिन शुरूआत में लोगों के दो समूह पर परीक्षण में जैसे नतीजे आए हैं वैसे और नतीजे आते हैं तो यह एक अहम उपल्ब्धि साबित होगी’.

(एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.