अस्‍थमा ऐसी बीमारी है जिसमें सांस लेने में काफी तकलीफ होती है. गर्मी हो या सर्दी, ये हर मौसम की परेशानी बन जाता है. Also Read - Home Remedies For Asthma: इन नेचुरल तरीको से अस्थमा का करें सामना, बेहद फायदेमंद हैं ये घरेलू नुस्खे

डॉक्‍टर्स कहते हैं कि अस्थमा (दमा) फेफड़ों की वायु नलिकाओं में सूजन के कारण होता है, जिसमें बार-बार घरघराहट और सांस फूलती है. अस्थमा का सबसे प्रमुख कारण परिवार में अस्थमा का इतिहास होना है. हालांकि, वायु प्रदूषण, घरेलू एलर्जी जैसे बिस्तर में खटमल, स्टफ्ड फर्नीचर, तंबाकू का धुआं और रासायनिक पदार्थ अस्थमा के प्रमुख कारकों में शामिल हैं. Also Read - Ayurvedic Tea For Asthma: अस्थमा से रहते हैं परेशान तो बदलते मौसम में पीएं ये आयुर्वेदिक चाय, जल्द मिलेगा आराम

अस्‍थमा के प्रकार
विभिन्न वजहों से होने वाले अस्थमा के भी कई प्रकार होते हैं जैसे एडल्ट ऑनसेट अस्थमा, एलर्जिक ऑक्यूपेशनल अस्थमा, व्यायाम से होने वाला अस्थमा और गंभीर (सीवियर) अस्थमा इत्यादि. पुराने अस्थमा का अमूमन निरंतर दवाओं द्वारा इलाज किया जाता है. लेकिन गंभीर लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए अधिक उन्नत उपचार की आवश्यकता होती है. Also Read - दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन अस्पताल में भर्ती, बुखार और सांस लेने में दिक्कत की शिकायत, आज होगा कोरोना टेस्ट

कमर, कूल्हे में बना रहता हो दर्द तो आपको हो सकती है ये गंभीर बीमारी!

भारत में अस्‍थमा
दुनिया के 20 सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में से 13 भारत में हैं. भारत में वायु प्रदूषण ने स्वास्थ्य संकट को जन्म दिया है. इस मामले में, भारत में अस्थमा कुल जनसंख्या के लगभग 15 से 20 प्रतिशत लोगों यानी तकरीबन 3 करोड़ लोगों पर असर डाल रहा है. आने वाले वर्षों में, बढ़ते प्रदूषण का स्तर इस संख्या को सैकड़ों-लाखों में बढ़ा सकता है.

डॉक्‍टर्स की राय
नोएडा स्थित मेट्रो रेस्पिरेटरी सेंटर के वरिष्ठ सलाहकार और चेयरमैन डॉ. दीपक तलवार कहते हैं, ‘जिन लोगों को इनहेलर्स लेने के बावजूद 1-2 महीने तक घरघराहट या खांसी आती रहती है, वे गंभीर अस्थमा की श्रेणी में आते हैं. जो मरीज अस्थमा को नियंत्रित करने के लिए वर्ष में दो बार से अधिक ओरल स्टेरॉयड लेते हैं वे भी अस्थमा की गंभीर श्रेणी में आते हैं और अंतर्निहित सूजन को नियंत्रित करने के लिए लंबे समय तक रोज दवा की आवश्यकता होती है’.

उन्होंने कहा कि सामान्य श्वास के साथ, फेफड़ों के वायुमार्ग पूरी तरह से खुले होते हैं. गंभीर अस्थमा वाले लोगों में वायुमार्ग की अत्यधिक चिकनी मांसपेशियां होती हैं जो उनके वायुमार्ग की परिक्रमा करती हैं. वायुमार्ग की सूजन के साथ यह अतिरिक्त मांसपेशी वायुमार्ग की दीवारों को मोटा बनाने के लिए जुड़ जाती हैं. अस्थमा के दौरे के दौरान, वायुमार्ग की चिकनी मांसपेशी सिकुड़ जाती है, जिससे सांस लेने में कठिनाई होती है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.