Cancer Early Symptoms: कैंसर ऐसी बीमारी है जो धीरे-धीरे पूरे शरीर में फैल जाती है. अगर सही समय में इसका पता न चले तो कैंसर रोगी को बचा पाना लगभग नामुमकिन हो जाता है. ऐसा नहीं है कि कैंसर एडवांस स्टेज में ही शरीर में लक्षण दिखाता है. इसके शुरुआती लक्षण भी काफी होते हैं जिन्हें सही समय में पहचानकर टेस्ट कराने से बचाव संभव है.Also Read - Health Alert: नींद से संबंधित ये बीमारी भारत में 40 लाख लोगों को कर रही परेशान, बचकर रहें

डॉक्टर्स कहते हैं कि कैंसर के लक्षण अक्सर अस्पष्ट होते हैं, हालांकि कुछ ऐसे लक्षण हैं जो कैंसर की ओर इशारा जरूर करते हैं. Also Read - Coronavirus Health Alert: कोरोना से संक्रमित हुए लोगों को किडनी का रखना चाहिए खास ख्याल

कैंसर से जुड़े कई शोधों में ये बात सामने आई है कि शरीर में इस बीमारी की शुरुआत में ही एलार्म बजता है. यानी कई असमान्य लक्षण दिखते हैं. लेकिन ज्यादातर लोग इन लक्षणों को सामान्य मानकर इग्नोर कर जाते हैं. Also Read - World Cancer Day 2021: विश्व कैंसर डे पर जानें इसका इतिहास, लक्षण और इससे बचाव के घरेलू उपाय

कैंसर के शुरुआती 7 लक्षण

  1. शरीर के किसी भी हिस्से में लंबे समय तक दर्द का बने रहना. दवाओं के बावजूद असर न होना. कोई बीमारी न होने के बावजूद दर्द का रहना, असहज महसूस होना. ऐसे में पर्याप्त जांच जरूरी है. डॉक्टर्स कहते हैं कि लगातार छाती, फेफड़े में दर्द या सिरदर्द, पेट में दर्द की समस्या है तो जांच करानी चाहिए. हालांकि इस दर्द का सीधा मतलब ये नहीं है कि आपको कैंसर है लेकिन ये दर्द इग्नोर नहीं किए जाने चाहिए.
  2. लंबे समय से खांसी हो रही है तो जांच जरूर करवाएं. खांसी के साथ बलगम और खून आना एक गंभीर स्थिति है.
  3. मूत्राशय या पेशाब से जुड़ी दिक्कतें बनी रहती हैं तो पर्याप्त जांच करानी चाहिए. पेशाब में खून की समस्या है तो यह गंभीर समस्या का इशारा है.
  4. महिलाओं को मेनोपॉज के बाद जांच कराते रहना चाहिए. मेनोपॉज के बाद ब्लीडिंग होना सामान्य नहीं है. इसके अलावा मल में खून आना, मसूढ़ों या मुंह से खून आना सामान्य नहीं है.
  5. बिना किसी कारण के वजन कम होना एक अलार्म है. इसे इस तरह समझिए कि आपके शरीर में कोई गंभीर समस्या है. ऐसा हो रहा है तो एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें. अक्सर ऐसा देखा गया है कि ये अग्नाशय, पेट, ग्रासनली या फेफड़ों के कैंसर का संकेत है.
  6. आंतों से जुड़ी दिक्कत बनी रहना. ऐसे में चिकित्सक की राय के अनुसार जांच कराएं.
  7. लगातार थकान बने रहना. लंबे समय तक. अच्छी डाइट लेने के बावजूद ऐसा होना. अत्यधिक काम के बाद थकान होना स्वभाविक है पर बिना किसी कारण थकान होना सामान्य नहीं है.