नई दिल्‍ली: नवरात्र‍ि के पावन पर्व में यदि कुछ उपाय किए जाएं तो धन से लेकर मानसिक परेशानी तक दूर की जा सकती हैं. खासतौर से जो लोग धन की कमी का सामना कर रहे हैं या किस्‍मत का साथ ना मिलने पर असफलता का सामना कर रहे हैं, या किसी कारण से बहुत ज्‍यादा परेशान हैं तो नवरात्र‍ि में यह सटीक उपाय उन्‍हें जरूर करना चाहिए. Also Read - Gupt Navratri 2020: गुप्त नवरात्रि शुरू, ऐसे करें कलश स्थापना, यह है मां दुर्गा का मंत्र

यह सच है कि मेहनत के बिना कुछ भी संभव नहीं है. लेकिन कई बार मेहनत करने के बावजूद सफलता नहीं मिल पाती. क्‍योंकि सफलता और जीवन में सुख हासिल करने के लिए मेहनत के साथ साथ किस्‍मत की भी जरूरत होती है. कुछ उपाय की मदद से आपकी किस्‍मत भी चमक जाएगी और भाग्‍य आपका साथ देने लगेगा. Also Read - Chaitra Navratri 2020 4th day: चैत्र नवरात्रि के चौथे दिन मां दुर्गा के कुष्मांडा स्वरूप की पूजा, जानें पूजन व‍िध‍ि

करें यह उपाय
नवरात्र‍ि के चौथे दिन एक पान का पत्‍ता और साबुत लौंग लें. साबुत लौंग का अर्थ है लौंग के ऊपर का फूल उतरा ना हो. पान का पत्‍ता और लौंग दोनों लेकर आप पूजा घर में बैठ जाएं और एक दीप प्रज्‍वलित करें. दीप घी का हो तो बेहतर होगा लेकिन अगर घर में घी नहीं है तो तेल का दीप जला सकते हैं. Also Read - अयोध्या में नवरात्रि के दौरान भक्त मानस भवन में करेंगे रामलला के दर्शन

मां के सामने पान का पत्‍ता और उसके ऊपर लौंग रख दें. फिर मां के सामने हाथ जोड़कर बैठ जाएं और ऊँ ह्रीं कूष्माण्डायै नम: का 21 बार जाप करें. ध्‍यान रहे जाप करते हुए बीच में आपको कोई टोके नहीं. उस पान के पत्‍ते और लौंग को अपने दाहीने हाथ में रखें और आपकी जितनी भी मनोकामनाएं हैं, उसे बोलें. फिर प्रज्‍वलित दीप के ऊपर से एंटी क्‍लॉक वाइज हाथ घुमाएं. ऐसा करने के बाद उस पान और लौंग को वहीं पूजा स्‍थान पर रख दें.

रात भर उस पान और लौंग को वैसे ही छोड़ दें. सुबह स्‍नान ध्‍यान करने के बाद उस पान और लौंग को बहते पानी में बहा दें. अगर आपके आसपास कोई बहती नदी नहीं है तो बड़े पेड़ के नीचे उसे दबा दें. पेड़ पीपल का हो तो और और भी अच्‍छा होगा. यह उपाय चैत्र नवरात्र‍ि के चौथे दिन रात 8 बजे के बाद करें. आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी.