Chawal Se Cancer Ka Khatra: भारत में चावल का स्वन भारी मात्रा में किया जाता है. चावल भारत के मुख्य भोजन में से एक है. चावल में कार्वोहाइड्रेट पाया जाता है जो भूख को शांत करने में मदद करता है. चावल  (Aese Chawal Khane Se Ho Sakta Hai Cancer)पकाने में काफी आसान होता है. लेकिन अगर चावल को सही तरीके  (Chawal Pakane Ka Sahi Tarika) से नहीं पकाया जाए तो यह सेहत के लिए काफी खतरनाक भी साबित हो सकता है.Also Read - Chinnor Rice GI Tag: बालाघाट के चिन्नौर चावल को मिला जीआई टैग, सीएम शिवराज सिह ने प्रधानमंत्री का जताया आभार

जैसा कि हम जानते हैं कि आज हम जो खाद्य पदार्थ खाते हैं वे केमिकल्स से भरे होते हैं. इसका मतलब है कि बिना यह जाने कि आप केमिकल्स का सेवन कर रहे हैं, और यह वास्तव में भविष्य में बहुत परेशानी का कारण बन सकता है. Also Read - Rice In Pressure Cooker: क्या आप भी खाते हैं प्रेशर कुक में पका हुआ चावल? तो इन चीजों के बारे में जानना अब आपके लिए हो गया है बेहद जरूरी

जानें क्या कहती है स्टडी

इंग्लैंड में क्वीन्स यूनिवर्सिटी बेलफास्ट द्वारा किए गए एक हालिया अध्ययन के अनुसार, चावलों को कीड़ों से बचाने के लिे और अच्छा पैदावार के लिए रासायनिक खाद और कीटनाश्कों का इस्तेमाल किया जाता है जिससे चावलों पर भी इसका खतरनाक असर पड़ता है. यह कई मामलों में आर्सेनिक विषाक्तता का कारण भी बन सकता है. Also Read - लंच में चावल खाने के बाद आपको भी आती है नींद और सुस्ती? जानें इसका कारण और इससे बचने के उपाय

इन केमिकलयुक्त चावलों का सेवन करने से आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. वहीं, कई दूसरी स्टडीज में भी इस बाद का खुलासा हुआ है कि इन केमिकलयुक्त चावलों का सेवन करने से कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है. ऐसे में जरूरी है कि आप चावलों को खाने से पहले अच्छी तरह से पकाएं.

क्वीन्स यूनिवर्सिटी बेलफास्ट के अध्ययन के अनुसार, चावल से आर्सेनिक से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा तरीका है कि इसे पकाने से पहले रात भर पानी में भिगो दें. इससे चावलों में मौजूद विषाक्त पदार्थ 80 फीसदी तक कम हो जाते हैं.