Children’s Day 2019 यानी बाल दिवस. चाचा नेहरू का जन्‍मदिन. दिन जो बच्‍चों के प्रति विशेष स्‍नाह और प्‍यार का है. वैसे तो हम सभी पूरे साल ही बच्‍चों पर प्‍यार लुटाते हैं, पर ये दिन बेहद खास है.

हर साल इस दिन को काफी धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का जन्‍मदिन भी होता है. पर क्‍या आप जानते हैं कि बाल दिवस मनाने की शुरुआत कबसे हुई. ये दिन इतना महत्‍वपूर्ण क्‍यों है.

Children’s Day 2019 Wishes: बाल दिवस पर भेजें ये WhatsApp Messages, Greetings, GIF

बाल दिवस के लिए यही दिन क्‍यों?
ये तो सभी जानते हैं कि पंडित नेहरू को बच्चों से बहुत प्यार था. वे हमेशा कहा करते थे कि बच्चे देश का भविष्य हैं. बच्चों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. यही वजह है कि बच्‍चे आज भी उन्‍हें चाचा नेहरू कहकर बुलाते हैं. नेहरू कहते थे कि बच्चे की अच्छे से देखभाल की जानी चाहिए. वे देश का भविष्य हैं.

बाल दिवस का इतिहास
27 मई 1964 को नेहरु जी के निधन के बाद बच्चों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए यह तय किया गया कि हर साल 14 नवंबर को उनके जन्मदिवस पर बाल दिवस (Bal Diwas) मनाया जाएगा. यूं तो बाल दिवस 1925 से मनाया जाने लगा था, लेकिन UN ने 20 नवंबर 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की. हालांकि अलग-अलग देशों में अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाया जाता है. भारत में ये तारीख 14 नवंबर है.

गौरतलब है कि नेहरु जी अपना अधिकतर समय बच्चों के साथ बिताना पसंद करते थे. पंडित नेहरू ने भारत की आजादी के बाद बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए Lifestyle पर क्लिक करें.