Coronavirus Lockdown: कोरोनावायरस से निपटने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है. लोगों को घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी है. ऐसे में इस कठिन समय में मनोबल बनाए रखना बेहद आवश्यक है. Also Read - Corona Pandemic: PM मोदी ने 4 राज्‍यों के मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर की बात

मनोचिकित्सक भी कह रहे हैं कि इस महत्वपूर्ण समय को घर-परिवार के साथ बिताने के साथ ही करीबियों से फोन पर बात कर और मैसेज भेजकर, आप संबंधों में मिठास बढ़ा सकते हैं. यह समय समाजिक दूरी बनाकर सबंधों में मिठास घोलने का है. Also Read - Haryana Lockdown Extension: हरियाणा में लॉकडाउन बढ़ाया गया, सख्‍ती जारी

मनोचिकित्सक डॉ.अलीम सिद्दीकी का कहना है, “लॉकडाउन में लोगों की आमदनी व आजादी कम हो गई है और उनके पास फालतू वक्त और असुरक्षा की भावना बढ़ गई है. लिहाजा, तनाव बढ़ना लाजमी है. हम इस तनाव को नजरिया बदलकर दूर कर सकते हैं.” Also Read - Lockdown Extended In Delhi: दिल्‍ली में लॉकडाउन एक हफ्ते बढ़ाया, CM केजरीवाल ने किया ऐलान

उन्होंने कहा, “कोरोना का फैलाव रोकने के लिए जरूरी है कि आप घर में रहकर देश और समाज के लिए योगदान दें. यह अनंत काल की समस्या नहीं है, जल्द खत्म हो जाएगा. लॉकडाउन के वक्त को छुट्टी की तरह इस्तेमाल करें. पति-पत्नी एक-दूसरे को वक्त दें, बच्चों के साथ खेलें. समय बचे तो भविष्य की प्लानिंग करें. इसके साथ ही दौड़ती-भागती जिंदगी में एकाएक आए ठहराव का असर किसी के भी आचार-व्यवहार में साफ देखा जा सकता है. ऐसे ही समय में लोगों के धैर्य की असली परीक्षा होती है.”

डॉ. सिद्दीकी ने कहा, “इस समय अपनी बदली दिनचर्या में कुछ समय अपने शुभचिंतकों से फोन के जरिये जुड़कर भी पुरानी यादों को ताजा करने के साथ ही संबंधों को फिर से एक ताजगी दे सकते हैं. इसके लिए भी सावधानी बरतने की जरूरत है कि एक दूसरे से फोन पर भी बात करते समय सिर्फ और सिर्फ कोरोना वायरस के खतरों के बारे में वार्तालाप न करें.”
(एजेंसी से इनपुट)