नई दिल्ली:  हर साल सितंबर माह के चौथे रविवार को डॉटर्स डे (Daughter’s Day 2020) या बेटी दिवस मनाया जाता है. इस बार यह 27 सितंबर को मनाया जाएगा. इस दिन लोग अपनी बेटियों को उपहार देते हैं और उनके साथ मसय बीताते है. साथ ही कुछ लोग बेटियों के साथ तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं. इस दिन को भारत समेत दुनिया के कई देशों में धूमधाम से मनाया जाता है. जिस प्रकार से हम मदर डे या फादर्स डे अपने माता पिता को सम्मान देने के लिए मनाते हैं उसी प्रकार से बेटियों को सम्मान देने के लिए डाटर्स डे मनाते हैं. बेटियों को समर्पित इस खास दिन को अलग-अलग देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है. Also Read - सितारों ने दीं बेटी दिवस की शुभकामनाएं, अमिताभ बच्चन ने शेयर की ये तस्वीर, लिखा कि...

डाटर्स डे  (Daughter’s Day History) का इतिहास
बेटियों के लिए खास दिन की जरूरत इसलिए हुई क्योंकि हमारे समाज में आज भी बेटियों को कमतर आंका जाता है. धीरे-धीरे डॉटर्स डे मनाने का ट्रेंड बढ़ा और इससे यह बात सामने आती है कि वक्त बदल रहा है. लोग बेटियों के होने की खुशी को सेलिब्रेट कर रहे हैं और परिवार के लोग बेटियों के साथ मिलकर इस दिन को एंजॉय करते हैं. संडे को यह दिन होने का महत्व इसलिए भी है क्योंकि छुट्टी होने के चलते बेटियों को पैरंट्स के साथ अच्छा वक्त बिताने का मौका मिलता है. Also Read - Daughters Day 2020 Wishes: इस डॉटर्स डे बेटियों को भेजे ये प्यार भरे मैसेज

डाटर्स डे का  (Daughter’s Day Importance) महत्व
भारत में बेटियों को लेकर एक खास रूढ़िवादी सोच रही है. बड़े शहरों मे तो यह सोच काफी बदली है लेकिन छोटे शहरों में अभी भी लोग बेटियों को खास तवज्जो नहीं देते. इसी रूढ़िवादी सोच को मिटाने के लिए भारत में डाटर्स डे मनाना शुरू किया गया. इस दिन को बनाने का उद्देश्य यह है लोगों के मन से यह भ्रांति दूर की जाए कि बेटी बोझ है. हालांकि यह निर्धारित नहीं है भारत में किस साल से डाटर्स डे मनाने की शुरुआत की गई. डाटर्स डे के माध्यम से लोगों को यह याद करने का मौका होता है कि बेटियां उनके लिए कितनी महत्वपूर्ण हैं. Also Read - Daughters Day Gift Idea: इस डॉटर्स डे पर अपनी बेटी को दें ये खास तोहफा और बनाएं उनका दिन खास, जानें तोहफों के लिए आसान टिप्स

बेटी दिवस परिवार की सभी लड़कियों और महिलाओं को सम्मानित करने का खास दिन है. दरअसल, भारत में बेटियों को लक्ष्मी का दर्जा दिया गया है. ऐसे में उन्हें बेटों से कम आंकने की बजाय उनका सम्मान करना चाहिए. इस दिन माता-पिता अपनी बेटियों को तोहफे देतें है, उनके लिए सरप्राइज प्लान करके इस दिन को खास बनाने की कोशिश करते हैं. यहां यह कहना गलत नहीं होगा कि बेटी दिवस माता-पिता और बेटियों के बीच रिश्ते को मजबूत बनाने का एक बहुत ही खास दिन है.