लॉस एंजिलिस: आजकल के भागदौड़ भरे जीवन में लोग इतना उलझ चुके हैं कि अपनी सेहत के लिए वो चाहकर भी वक्त नहीं निकाल पाते. ऑफिस में लगातार कंप्यूटर के सामने बैठे रहने से हालत और खराब होती जा रही है. ऐसे में मधुमेह यानी डायबिटीज जैसी बीमारी लगातार लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रही है. गांवों के मुकाबले शहरों में लोग इसके ज्यादा शिकार हो रहे हैं. अब एक नई रिसर्च से सामने आया है कि अगर आप विटामिन D की कमी से गुजर रहे हैं तो आप भी डायबिटीज का शिकार हो सकते हैं. रिसर्च के मुताबिक विटामिन D की कमी से मधुमेह यानी डायबिटीज की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है.

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया सैनडियागो और दक्षिण कोरिया की सोल नेशनल यूनिवर्सिटी ने 903 स्वस्थ लोगों पर ये रिसर्च की है. इन सभी की औसतन उम्र 74 साल थी और ये लोग 1997-1998 के बीच डायबिटीज के शिकार नहीं थे और न ही इनमें डायबिटीज होने के कोई लक्षण थे.

इसके बाद इन उम्मीदवारों के स्वास्थ्य की जानकारी 2009 तक रखी गई. इस दौरान इन लोगों के रक्त में विटामीन डी के स्तर और प्लाज्मा ग्लूकोज तथा ओरल ग्लूकोज टोलरेंस की जांच की गई. कुछ समय बीतने के बाद इनमें डायबिटीज के 47 मामले और डायबिटीज के पहले वाले चरण के 337 मामले मिले, जिनमें रक्त में शुगर की मात्रा सामान्य से ज्यादा थी लेकिन इतना भी ज्यादा नहीं थी कि उसे टाइप 2 डायबिटीज की कैटेगरी में रखा जाए.

यह रिसर्च ‘प्लसवन’ जर्नल में छपी है, अध्ययनकर्ताओं ने 25- हाइड्रोक्सी विटामिन D का रक्त प्लाज्मा में न्यूनतम स्वस्थ स्तर प्रति मिलीलीटर 30 नैनोग्राम पाया.