डायबिटीज एक स्थायी रोग है जिसमें आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है. और अगर इसका इलाज नहीं किया गया तो ये आपके दिल, ब्लड वैस्ल्स, आंख और किडनी को हानि पहुंचा सकता है. डायबिटीज कंट्रोल करना कोई आसान काम नहीं है लेकिन स्वस्थ आदतें अपना कर कम से कम अपने ब्लड ग्लूकोज लेवल को तो संतुलित रख ही सकते हैं. यूं तो डायबिटीज को जड़ से मिटाना फिलहाल मुमकिन नहीं है. लेकिन लाइलाज समझकर इसे पूरी तरह से नजरअंदाज करना भी घातक है.Also Read - Karva Chauth 2021 Special: डायबिटीज से पीड़ित महिलाएं करवा चौथ का व्रत रखने से पहले इन बातों का रखें खास ख्याल

डायबिटीज से जूझ रहे लोगों को अपने खाने के प्रति अधिक सचेत रहना पड़ता है. मीठे खाद्य पदार्थ, ड्रिंक्स, ट्रांस्फैट्स से हमेशा दूरी बना के रखने में ही समझदारी होती है. ऐसे में आज हम आपको बताएंगे की कैसे आप कुछ खास पेड़ों के पत्ते खाकर आपनी डायबिटीज को कम कर सकते हैं औऱ अपनी सेहत को सुधार सकते हैं. दरअसल आयुर्वेद विशेषज्ञ फल, सब्जी और अलग-अलग पौधों की पत्तियों को ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रखने और इनसुलिन के इस्तेमाल की शरीर की क्षमता बढ़ाने में कारगर मानते हैं. Also Read - Milk For Diabetes Patients: जानें डायबिटीज के मरीजों को कब और किस तरह के दूध का करना चाहिए सेवन

जामुन की पत्तियां
भारत, ब्रिटेन और अमेरिका में हुए कई अध्ययनों में जामुन की पत्ती में मौजूद ‘माइरिलिन’ नाम के यौगिक को खून में शुगर का स्तर घटाने में कारगर पाया गया है विशेषज्ञ ब्लड शुगर बढ़ने पर सुबह जामुन की चार से पांच पत्तियां पीसकर पीने की सलाह देते हैं शुगर काबू में आ जाए तो इसका सेवन बंद कर दें. Also Read - साइलेंट किलर कही जाने वाली इस बड़ी बीमारी के शिकार होते हैं ये ब्लड ग्रुप वाले लोग, रहे संभलकर

करी पत्ता
करी पत्ते में मौजूद आयरन, जिंक और कॉपर जैसे मिनरल न सिर्फ अग्नाशय की बीटा-कोशिकाओं को सक्रिय करते हैं, बल्कि उन्हें नष्ट होने से भी बचाते हैं. इससे ये कोशिकाएं इनसुलिन का उत्पादन तेज कर देती हैं। डायबिटीज पीडितों के लिए रोज सुबह खाली पेट 8-10 करी पत्ते चबाना फायदेमंद है.

आम की पत्ती
विशेषज्ञ डायबिटीज के मरीजों को आम के सेवन से बचने की सलाह देते हैं, लेकिन इसकी पत्तियां बीमारी की रोकथाम में अहम भूमिका निभा सकती हैं. दरअसल, आम की पत्तियां ग्लूकोज सोखने की आंत की क्षमता घटाती हैं. इससे खून में शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है आम की पत्तियां सुखाकर पाउडर बना लें। खाने से एक घंटे पहले पानी में आधा चम्मच घोलकर पीएं.

नीम की पत्ती
आंत को ग्लूकोज सोखने से रोकने के अलावा नीम की पत्ती इनसुलिन के इस्तेमाल की शरीर की क्षमता भी बढ़ाती है. इसके सेवन को डायबिटीज की दवाओं पर निर्भरता घटाने में कारगर माना गया है. विशेषज्ञ रोज सुबह खाली पेट नीम की ताजी पत्तियां पीसकर उनसे एक चम्मच रस निकालकर पीने की सलाह देते हैं.