वाशिंगटन: ज्यादा मात्रा में फल और सब्जियां खाने से हेमोडायलिसिस से गुजर रहे मरीजों में असामयिक मौत का खतरा कम होता है. एक अध्ययन में यह दावा किया गया है. गुर्दा खराब होने के बाद रक्त की शुद्धि के लिए हेमोडायलिसिस की जाती है. Also Read - बिहार के जूनियर डॉक्टर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, इन मांगों पर अड़े, स्वास्थ्य सेवायें प्रभावित

Also Read - लाल मिर्च, धनिया पाउडर, गरम मसाला... ये सब गधे की लीद से बनाकर बेचते थे, कहीं आपने भी तो नहीं खा लिए!

सर्दियों में ज्यादा ठंड लगे तो हो जाएं Alert, आपको है इस बीमारी का खतरा Also Read - बिना पेट वाली महिला: टॉयलेट क्लीनर पीया, डॉक्टर्स ने जान बचाने को पेट ही काट दिया, फिर...

यह अध्ययन ‘क्लिनिकल जर्नल ऑफ द अमेरिकन सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी (सीजेएएसएन) में प्रकाशित हुआ है. इसमें बताया गया है कि जिन मरीजों का गुर्दा खराब हो चुका होता है उन्हें खान-पान की सलाह देने के लिये भी अधिक अध्ययन करने की जरूरत है.

सर्दियों में ऐसे बनाएं मसाला चाय, इन तकलीफों से रखेगी आपको दूर

अध्ययन में कहा गया है कि ज्यादा मात्रा में फल और सब्जियों का सेवन आम लोगों में हृदय संबंधी बीमारी के खतरे को कम करने और मृत्य दर कम होने से जुड़ा है लेकिन जिन मरीजों के गुर्दे खराब हो चुके हैं, उन्हें हेमोडायलिसिस के दौरान इस तरह के खान-पान से से दूर रहने की सलाह दी जाती है. इसके पीछे की वजह से पोटाशियम का बनना है.

Health: जल्द इलाज से ठीक हो सकता है कुष्ठ रोग, देर करने पर शारीरिक अपंगता का खतरा

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.