नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच जहां हम सब परेशान हैं, वहीं क्या हमने एक बार भी सोचा है कि जब हम घरों से बाहर निकलने के लिए आजाद होंगे तो क्या अपने फैंसी कपड़ों में सुकून के साथ बाहर निकलने का साहस कर पाएंगे? एंटीवायरल कपड़ों को पहनने से इसमें मदद मिल सकती है, जो भले ही सुरक्षा की गारंटी नहीं देता है, लेकिन कम से कम मानसिक शांति देता है. नियो टेक्नोलॉजी की मदद से  जिंदगी शायद सहज व आसान हो जाए. Also Read - एक रिपोर्ट में दावा- भारत में 37 प्रतिशत महिलाएं कभी नहीं खरीद पातीं सोना, लेकिन...

ग्राडो नियो टेक्नोलॉजी उपयोग करते हुए वायरस और रोगाणुओं से सुरक्षा के लिए कपड़े बनाने वाली पहली कपड़ा कंपनी है. डोनियर समूह की कंपनियों द्वारा विकसित और ग्राडो की निर्माण इकाइयों द्वारा बेहतरीन तरीक से तैयार किए गए परिधानों में सूट से लेकर जैकेट और पतलून तक किसी भी तरह के परिधान पहनने और उपयोग करने के लिए सुरक्षित प्रमाणित किए गए हैं. विशेष रूप से डिजाइन किए गए एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल कपड़े सूक्ष्मजीवों को पनपने से रोकते हैं, जिससे वे सुरक्षित और स्वच्छ बनते हैं. Also Read - Fashion Tips For Ladies: शादी- पार्टी में जाने के लिए जरूर पहने ये स्टाइलिश चोकर, जीत लेंगी सभी का दिल

ग्राडो के मेंटर राजेंद्र अग्रवाल ने रेंज के बारे में कहा, “दुनिया की मौजूदा स्थिति को देखते हुए, हम बाजार में इस लॉकडाउन के लिए ज्यादा हाइजीन प्रोडक्ट की पेशकश करने की स्थिति में होना चाहते थे और भाल एंटी वायरल कपड़ों से बेहतर और क्या हो सकता है, जिसे हर कोई पहन सकता है. हम इस मुश्किल समय में राष्ट्र के लिए अपना योगदान देने के बारे में गर्व महसूस कर रहे हैं.” अधिक जानकारी के लिए आप ग्राडो फैब्रिक्स की वेबसाइट ‘डब्ल्यडब्ल्यूडब्ल्यूडॉटग्राडोनियोटेकडॉटकॉम’ पर जा सकते हैं. Also Read - टिकटॉक क्वीन कहलाना पसंद करती हैं अलादीन सीरियल की यह एक्ट्रेस, दुनिया से जुदा है इनका फैशन सेंस