Father’s Day 2020 Shayari: आज पूरी दुनिया फादर्स डे मना रही है. इस ख़ास मौके पर हर कोई अपने अपने तरीकों से अपने पिता को याद कर रहा है. वैसे पिता को याद करने का कोई मुक़र्रर दिन नहीं होता. ये तो वो साया है जो हर इंसान की बुनियाद बनता है. और उर्दू शायरी में रिश्तों को बहुत अहमियत दी जाती  है. आज हम आपके लिए वो अशआर या शायरी लेकर आए हैं जिसमें पिता (वालिद) की मोहब्बत से लेकर उसकी कुर्बानी तक का ज़िक्र है. इन अशआर के ज़रिए आप अपने वालिद को कुछ प्यारे एहसास से मुख़ातिब ज़रूर कर सकते है. ये हैं ‘वालिद’ पर 10 सबसे बड़े शेर : Also Read - इन बॉलीवुड हस्तियों ने फादर्स डे पर अपने पिताओं को किया याद, शेयर किए इमोशनल नोट्स   

Father’s Day 2020 Urdu Shayari- Also Read - Fathers Day: विराट कोहली ने पिता के लिए लिखा इमोश्‍नल मैसेज, फैन्‍स को स्‍वयं अपना रास्‍ता बनाने की दी सलाह

बेटियाँ बाप की आँखों में छुपे ख़्वाब को पहचानती हैं
और कोई दूसरा इस ख़्वाब को पढ़ ले तो बुरा मानती हैं
इफ़्तिख़ार आरिफ़ Also Read - Father's Day 2020: रोहित, शिखर और रहाणे ने इस तरह फादर्स डे को बनाया यादगार

ये सोच के माँ बाप की ख़िदमत में लगा हूँ
इस पेड़ का साया मिरे बच्चों को मिलेगा
मुनव्वर राना

घर की इस बार मुकम्मल मैं तलाशी लूँगा
ग़म छुपा कर मिरे माँ बाप कहाँ रखते थे
अज्ञात

मुझ को छाँव में रखा और ख़ुद भी वो जलता रहा
मैं ने देखा इक फ़रिश्ता बाप की परछाईं में
अज्ञात

हमें पढ़ाओ न रिश्तों की कोई और किताब
पढ़ी है बाप के चेहरे की झुर्रियाँ हम ने
मेराज फ़ैज़ाबादी

फादर्स डे पर हिंदी शायरी- Father’s Day Quotes in Hindi

उन के होने से बख़्त होते हैं
बाप घर के दरख़्त होते हैं
अज्ञात

मुद्दत के बाद ख़्वाब में आया था मेरा बाप
और उस ने मुझ से इतना कहा ख़ुश रहा करो
अब्बास ताबिश

बच्चे मेरी उँगली थामे धीरे धीरे चलते थे
फिर वो आगे दौड़ गए मैं तन्हा पीछे छूट गया
ख़ालिद महमूद

Best Shayari on Father’s Day – पिता पर शायरी 

मेरा भी एक बाप था अच्छा सा एक बाप
वो जिस जगह पहुँच के मरा था वहीं हूँ मैं
रईस फ़रोग़

मैं अपने बाप के सीने से फूल चुनता हूँ
सो जब भी साँस थमी बाग़ में टहल आया
हम्माद नियाज़ी