घर का फ्लोर क्‍लीनर बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक है. ये बात एक नए शोध में सामने आई है. Also Read - Chaitra Navratri 2021 Food Ideas : आप भी रखने वाले हैं चैत्र नवरात्रि के व्रत, तो खाएं ये चीजें, डिहाइड्रेशन के नहीं होंगे शिकार

इस शोध में शोधार्थियों ने दावा किया है कि घरों में साफ-सफाई के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले कीटाणुनाशक और अन्य केमिकल बच्चों में मोटापे की समस्या बढ़ा सकती हैं. Also Read - How To Be Safe From Covid-19: कोरोना से है बचना तो बॉडी में इन 2 चीजों का बैलेंस बनाए रखें...

एक नये अध्ययन में दावा किया गया है कि फिनायल, हारपिक, लाइजोल और इस तरह के अन्य उत्पाद बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ (मानव के पाचन तंत्र में रहने वाले सूक्ष्म जीव) में बदलाव कर बच्चों में वजन बढ़ने की प्रवृत्ति को बढ़ा सकते हैं. Also Read - Hand Wash After Using Toilet: टॉयलेट जाने के बाद अगर आप भी नहीं धोते हैं हाथ, तो उठाने पड़ सकते हैं कई तरह के नुकसान, जानें कैसे

कैनेडियन मेडिकल ऐसोसिएशन जर्नल में इस बारे में एक अध्ययन प्रकाशित किया गया है. इस अध्ययन के लिए कनाडा की अल्ब्रेटा यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों ने 3-4 महीने की आयु के 757 शिशुओं के ‘गट माइक्रोब्स’ का विश्लेषण किया.

अध्ययन के दौरान घरों में इस्तेमाल किए जाने वाले कीटाणुनाशक, सफाई सामग्री और अन्य पर्यावरण हितैषी उत्पाद के प्रभावों का विश्लेषण करते हुए बच्चों का वजन मापा गया.

अध्ययन में यह पाया गया कि घरों में कीटाणुनाशकों का ज्यादा इस्तेमाल किए जाने से 3-4 माह की आयु वाले बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ में बदलाव आया. उन्होंने पाया कि अन्य डिटर्जेंट और सफाई में इस्तेमाल होने वाले अन्य उत्पादों का भी बच्चों पर ऐसा ही प्रभाव पड़ा.