नई दिल्ली: गांधी जी की 150वीं जयंती मनाई जा रही है. इस मौके पर लोग गांधी जी को याद करते हैं. उनके जीवन से प्रेरणा लेते हैं. पर इस मौके पर हम गांधी जी से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य आपको बताने जा रहे हैं.

Gandhi Jayanti 2018: बापू की 150वीं जयंती पर 15 RARE PHOTOS, जिन्हें कभी नही देखा होगा आपने…

ये तथ्य ऐसे हैं, जिनमें से कई से आप अनजान होंगे. तो देर किस बात की, जानते हैं इनके बारे में.

– महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था. जन्म 2 अक्टूबर को गुजरात के पोरबंदर में हुआ. उनके पिता का नाम करमचन्द गांधी और माता का नाम पुतलीबाई था.

mahatma-gandhi-0015

– गांधी जी की शादी 13 साल की उम्र में कर दी गई थी. कस्तूरबा गांधी से 1883 में शादी के बाद 1885 में उनकी पहली संतान का जन्म भी हो गया था.

– उन दिनों बाल विवाह का प्रचलन था. गांधी जी के साथ भी ऐसा ही हुआ था. हालांकि शादी के बाद गांधी जी पढ़ाई करते रहे. उन्होंने लंदन में बैरिस्टर की डिग्री ली.

– गांधी जी ने दक्ष‍िण अफ्रीका प्रवास के दौरान 1899 के एंग्लो बोएर युद्ध में स्वास्थ्यकर्मी के तौर पर काफी मदद की थी. वे वहां युद्ध से उपजी तबाही देखकर विचलित हो उठे थे. तभी से वे अहिंसा के रास्ते पर चल पड़े.

Gandhi Jayanti 2018 Wishes: बापू को ऐसे करें याद, भेजें Whatsapp Messages, Quotes और Photos…

– देश को आजादी दिलाने की लड़ाई के दौरान गांधी जी को कई बार जेल जाना पड़ा था.

– क्या आप जानते हैं कि उन्हें 5 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किया गया था. पर उन्हें ये मिला नहीं.

– स्टीव जॉब्स को तो आप सब जानते ही होंगे. वे गांधी जी से काफी प्रेरित थे. इसलिए उन्हें सम्मान देने को गोल चश्मा पहना करते थे.

Mahatma Gandhi

गांधी जयंती
2 अक्टूबर को हर साल उस महात्मा के नाम समर्पित किया जाता है जिन्होंने देश को हमेशा अहिंसा के रास्ते पर चलने की शिक्षा दी है. 2 अक्टूबर 1869 राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था. साल 1948 में उनकी मत्यु के बाद से ही हर साल 2 अक्तूबर को गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है. महात्मा गांधी ने पूरी दुनिया को यह सीख दी है कि बिना किसी हिंसा के कोई भी लड़ाई लड़ी जा सकती है. महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे.

Gandhi Jayanti Special: बापू की 11 अनदेखी तस्वीरें, जिन्हें इस गांधी जयंती जरूर देखें…

महात्मा गांधी हमेशा यह कहते थे कि अगर कोई एक थप्पड़ मारे तो उसे दूसरा गाल दे देना चाहिए. क्योंकि आपकी विनम्रता से सामने वाला इंसान जरूर एक न एक दिन पिघल ही जाएगा. गौरतलब है कि सुभाष चंद्र बोस ने वर्ष 1944 में रंगून रेडियो से गांधी जी के नाम जारी प्रसारण में उन्हें ‘राष्ट्रपिता’ कहकर सम्बोधित किया था.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.