Gandhi Jayanti 2019 के अवसर पर लोग राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी को याद करते हैं. उनकी कही बातों को जीवन में उतारने का प्रयास करते हैं.

ये बातें ऐसी हैं जो जीवन में आपको ऊंचाइयों तक पहुंचा सकती हैं. बस आवश्‍यकता है इन बातों को समझने की, जीवन में उतारने की.

क्‍या कहते थे गांधी जी-

Gandhi Jayanti 2019: गांधी जयंती पर भेजें ये WhatsApp Messages, Facebook Status, SMS

खुद वो बदलाव करिए जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं.
Be the change you want to see in the world.

 

आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए. मानवता सागर के समान है, यदि सागर की कुछ बूंदे गंदी हैं, तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता.
You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean, if a few drops of the ocean are dirty, the ocean does not become dirty.

 

खुद को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है, खुद को दूसरों की सेवा में खो दो.
The best way to find yourself is to lose yourself in the service of others.

 

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जाएंगे.
First they ignore you, then they laugh at you, then they fight you, then you win.

 

जब मैं सूर्यास्त और चन्द्रमा के सौंदर्य की प्रसंशा करता हूं, मेरी आत्मा इसके निर्माता के पूजा के लिए विस्तृत हो उठती है.
When I admire the wonders of a sunset or the beauty of the moon, my soul expands in the worship of the creator.

 

व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित प्राणी है, वह जो सोचता है वही बन जाता है.
A man is but the product of his thoughts; what he thinks, he becomes.

 

एक विनम्र तरीके से, आप दुनिया को हिला सकते हैं.
In a gentle way, you can shake the world.

Gandhi Jayanti 2019: गांधी जयंती पर 1,000 फीट लंबा ग्रीटिंग कार्ड, पहुंचेगा मोदी तक, देखें Photos

 

मैं किसी को भी अपने गंदे पाँव के साथ मेरे मन से नहीं गुजरने दूंगा.
I will not let anyone walk through my mind with their dirty feet.

 

आंख के बदले में आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी.
An eye for an eye only ends up making the whole world blind.

 

शक्ति शारीरिक क्षमता से नहीं आती. यह एक अदम्य इच्छा शक्ति से आती है.
Strength does not come from physical capacity. It comes from an indomitable will.

 

गांधी जयंती
2 अक्टूबर को हर साल उस महात्मा के नाम समर्पित किया जाता है जिन्होंने देश को हमेशा अहिंसा के रास्ते पर चलने की शिक्षा दी है. 2 अक्टूबर 1869 राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था. साल 1948 में उनकी मत्यु के बाद से ही हर साल 2 अक्तूबर को गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है. महात्मा गांधी ने पूरी दुनिया को यह सीख दी है कि बिना किसी हिंसा के कोई भी लड़ाई लड़ी जा सकती है. महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए Lifestyle पर क्लिक करें.