नई दिल्ली: भारतीय खाने में घी का काफी महत्व है. भारत में बनने वाले सभी व्यजनों में घी अगर ना हो तो खाना खाया जैसा नहीं लगता. ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान भी महिलाओं को घी खाने की सलाह दी जाती है. लेकिन क्या आपको पता है कि इस दौरान घी खाना चाहिए भी या नहीं. और अगर खाना चाहिए तो इसे खाने से गर्भवती महिलाओं को क्या लाभ हो सकता है. ऐसा माना जाता है कि घी खाने से गर्भवती महिलाओं को डिलीवरी में आसानी होती है. लेकिन क्या यह बात सच है? आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी में घी का सेवन करने से क्या होता है. Also Read - प्रेग्नेंसी के दौरान हो रही है आलू खाने की क्रेविंग तो पहले जान ले ये बातें, हो सकता है खतरनाक

कितना करना है घी का इस्तेमाल
गर्भवती महिलाएं रोजाना उचित मात्रा में घी का सेवन कर सकती हैं. घी आसानी से पच जाता है और इससे मेटाबॉलिज्म भी तेज होता है. लेकिन अगर आपका वजन ज्यादा है तो आप घी का सेवन करने से बचें. बता दें कि गर्भवस्था के दौरान आपको रोज केवल 2 से 3 चम्मच घी का सेवन ही करना चाहिए. अगर गर्भवस्था के दौरान महिलाएं घी खाती हैं तो उनका मूड काफी अच्छा रहता है. साथ ही शरीर को जरूरी पोषण भी मिलता है. Also Read - कोरोना वायरस से बचना है तो रोजाना पीएं पालक का जूस, इम्युनिटी बढ़ाने के अलावा और भी हैं कई फायदे

प्रेग्नेंसी में कब खाना चाहिए घी
अब आप सोच रहे होंगे कि प्रेग्नेंसी में घी कब खाना चाहिए तो आपको बता दें कि आप पूरे 9 महीने तक घी का सेवन कर सकती हैं. ध्यान दें कि अगर आप इस दौरान ज्यादा घी का सेवन करते हैं तो इससे आपका वजन और मोटापा बढ़ सकता है. वहीं, गर्भावस्‍था के आखिरी चरण में शारीरिक रूप से सक्रिय रहना भी कम हो जाता है. ऐसे में ज्‍यादा घी खाना मोटापा दे सकता है जिससे नॉर्मल डिलीवरी में दिक्‍कत आ सकती है. Also Read - Toned milk vs Full cream milk: टोन्ड मिल्क पीने वाले हो जाइए सावधान, खतरे में है आपका जीवन

बता दें कि आयुर्वेद के अनुसार घी को दूध में एक से दो बूंद डालकर पीने से इम्युनिटी बढ़ती है साथ ही इससे होने वाले बच्चे का दिमाग भी काफी तेज होता है.