अगर आप भी अपने दोस्तों से काफी समय से नहीं मिले हैं तो इस फ्रेंडशिप डे ये मौका अपने हाथ से न जाने दें. रविवार यानी 5 अगस्त को फ्रेंडशिप डे है. फ्रेंडशिप डे यानी सब कुछ भुलाकर एक दिन अपने दोस्तों के नाम…इस दुनिया में कोई भी इंसान लंबे समय तक अकेला नहीं रह सकता. एक समय बाद हम सभी को एक ऐसे दोस्त की की जरूरत होती है जिससे हम बात कर सकें और जिसके साथ अपनी खुशी और गम के पल बांट सकें.Also Read - Kab Hai Friendship Day 2021: इस दिन मनाया जाएगा फ्रेंडशिप डे, यहां जानें इसका इतिहास

लोगों से मिलना, बातें करना और साथ में समय बिताने से आपके स्वास्थ्य को कई लाभ होते हैं. विज्ञान भी इस बात को मानता है कि सोशल इंटरेक्शन से आपको कई फायदे होते हैं. चलिए जानते हैं दोस्तों से मिलना और आउटिंग करने से आपको क्या-क्या फायदे होते हैं. सोशल सपोर्ट से आप लंबा जीवन जीते हैं. डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गों पर अध्ययन से पता चला है कि इंटरेक्शन से मृत्यु दर को कम करने में सहायता मिलती है. Also Read - 17 साल की लड़की ने रात 1 बजे बॉयफ्रेंड को बुलाया घर, सो रहीं अपनी ही माँ के साथ...

516306-friendshipdat2Also Read - Rahul Vaidya Disha Parmar Wedding: साथ जीने-मरने की खाई कसमें, सात जन्म तक साथ निभाएंगे

रिश्ते और इमोशनल सपोर्ट से आपकी लाइफ पर पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है. एक स्टडी के अनुसार, लोगों के साथ रहने और बातचीत करने वालों का इम्युनिटी सिस्टम भी ज्यादा मजबूत होता है जिससे उन्हें इन्फेक्शन का खतरा कम होता है. एक्टिव सोशल लाइफ आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छी हो सकती है. स्टडी के मुताबिक, जिन लोगों कि सामाजिक भागीदारी कम होती है उन्हें एक्यूट मायोकार्डियल इन्फार्क्शन का खतरा अधिक होता है.

friends-real

एक स्टडी में पाया गया है कि जो लोग ब्रेक के दौरान आपस में बातचीत और हंसी-मजाक करते हैं, वो उन लोगों की तुलना में ज्यादा काम करते हैं जो चुपचाप बैठकर की-बोर्ड पर लगातार काम करते रहते हैं. लोगों के साथ मजाक करना, बहस करना और चैट करना रोमांचक हो सकता है और आपके दिमाग के लिए भी सही है. विज्ञान के अनुसार, इससे दिमाग को स्वास्थ्य को बनाए रखने और मेमोरी में सुधार में मदद मिलती है.

pjimage-26

आप चाहे कितने ही बड़े क्यों ना हों लेकिन दोस्तों की मदद के बिना सर्वाइव नहीं कर सकते. अकेलापन और अलगाव मानसिक स्वास्थ्य को कम करने और डिप्रेशन का खतरा बढ़ाने से जुड़ा हुआ है. अकेलापन और उदासी दुर्लभ नींद के लिए जिम्मेदार हो सकता है. इसलिए अपने दोस्तों से मिलते रहें. इससे आपको बेहतर नींद में मदद मिल सकती है.