ये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दिन हैं और हम घर में रहकर खुद और समाज दोनों को कोविड-19 से सुरक्षित रखने में योगदान दे रहे हैं. यदि आप हमसे पूछें तो इस लॉकडाउन ने निश्चित तौर पर हमारे जीवन की अन्य चीजों में कुछ संभावना पैदा की है. ये चीजें और खुशियां भले ही छोटी हैं लेकिन ये मायने रखती हैं. परिवार के पास रहना, उनके साथ समय बिताना जैसी चीजें संभवतः परिवार की पुरानी परंपरा का अनुभव करना है. इस दौरान हम कहानियां सुना रहे हैं, उस पर खुलकर हंस रहे हैं और कुल मिलाकर आने वाले वर्षों के लिए यादों का एक पिटारा तैयार रहे हैं. Also Read - फोर्ब्स लिस्‍ट: दुनिया की सम्मानित फर्मों की सूची में 17 भारतीय कंपनियां शामिल

Also Read - 10 अगस्त से शुरू होगी स्नैपडील की डील्स ऑफ इंडिया सेल, 1 लाख से ज्यादा उत्पादों पर 80 फीसदी तक छूट

ऐसे समय में जब हमारी भावनाएं चरम पर हैं तो हमारे दिलों को, पहले की तुलना में कहीं ज्यादा, जो चीज छू रही है वो है एशियन पेंट्स की शानदार मौजूदगी. यह ब्रांड अपने ‘हर घर चुप चाप से कहता है’ कैम्पेन के जरिए हमें इस कठिन समय में घर में रहने और अपने करीबियों के साथ समय बिताने के लिए प्रेरित कर रहा है. Also Read - एशियन पेंट्स का समेकित शुद्ध लाभ 34 फीसदी बढ़ा

 

इस कैम्पेन में एक विचारशील घुमाव है. किस तरह से हमारा जीवन बदल रहा है, यह उसको समेट रहा है. हम धीरे-धीरे इस ‘नए समान्य’ जीवन को स्वीकार करने लगे हैं. हमारा घर हमारे और परिवार के लिए एक सुरक्षित आश्रय बना हुआ है. इसके अलावा, इस कैम्पेन में अतीत की एक खूबसूरत याद भी है, क्योंकि यह अपने दर्शकों को 2007 की इस नाम के यादगार कैम्पेन की यादें ताजा करवाता है.

दिल को छूने वाली ये छोटी-छोटी चीजें, कहानियां और आपसी बातचीत ने प्रियजनों के साथ बिताए खूबसूरत पलों की यादें फिर से ताजा कर दी हैं, जो वाकई मिसाल देने लायक, बेहद कीमती और स्वार्थविहीन है. जरा इन चीजों के बारे में सोचिए… बच्चों के साथ कार्ड गेम खेलना, छोटी बहन के साथ खाना खाना, पहली बार खाना बनाने की कोशिश करना, दादी के हाथों की गरम-गरम चपाती और भी काफी कुछ.

वैसे, क्या हमने कैम्पेन में फिल्माए गए वास्तविक घरों के वीडियो और वास्तविक लोगों का जिक्र किया है? हां, यह कुछ अधिक ही खास बनाता है ना? यह फिल्म ने कठिन समय में परिवार के सदस्यों की बदलती भूमिका, एकजुटता और एक-दूसरे के लिए मौजूद रहने की भावना को खूबसूरत तरीके से सामने लाया है.

ओगिल्वी इंडिया द्वारा निर्मित और लेखक पीयूष पांडे द्वार वर्णित यह मोंटाज, परिवार के साथ समय बिता रहे लोगों के वास्तविक घर का वीडियो है, जहां वे घर पर रहने का आनंद ले रहे हैं- वाकई यह घर को हिट करता है.

‘हर घर चुप चाप से कहता है’ बेहद कीमती पारिवारिक पलों का प्रेरणादायी जुड़ाव है, जो यह संदेश देता है कि कोई भी जगह उतनी सुरक्षित नहीं हो सकती, जितना सुरक्षित आपका अपना घर होता है. खासकर इस मौजूदा समय में. एशियन पेंट्स अपने होम एक्सपर्ट्स के जरिए दशकों से सपनों के घरों का निर्माण किया है और आज वे हमसे चाहते हैं कि बेहतर कल लाने के लिेए हम घरों के अंदर रहें और सुरक्षित रहें.

(यह एक प्रमोशनल आलेख है)