नई दिल्ली: खाद्य जनित बीमारियां या फूड पॉइजनिंग आमतौर पर उन खाद्य पदार्थो को खाने से होती है, जो दूषित बैक्टीरिया या उनके विषाक्त पदार्थो से होती है. चिकित्सकों का कहना है कि वायरस और परजीवी भी फूड पॉइजनिंग का कारण बन सकते हैं. हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि लोग लंबे समय से जानते हैं कि कच्चे मांस, मुर्गी और अंडे भी रोगाणुओं का कारण बन सकते हैं. हाल के वर्षो में ताजे फल और सब्जियों के कारण खाद्य जनित बीमारियों का सबसे ज्यादा प्रकोप रहा है.

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण

उन्होंने कहा कि फलों और सब्जियों की पूरी तरह से धुलाई और उचित तरीके से खाना पकाने से, खाद्य विषाक्तता का कारण बनने वाले अधिकांश बैक्टीरिया समाप्त हो सकते हैं, लेकिन कुछ स्ट्रेन हैं, जो प्रतिरोधी के रूप में उभर रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस प्रकार यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि स्रोत पर ही नुकसान को कम किया जाए. खाद्य जनित बीमारियां या फूड पॉइजनिंग आम तौर पर उन खाद्य पदार्थो को खाने से होती है, जो दूषित बैक्टीरिया या उनके विषाक्त पदार्थो से होते हैं. वायरस और परजीवी भी फूड पॉइजनिंग का कारण बन सकते हैं. फूड पॉइजनिंग के कुछ लक्षणों में पेट में दर्द, मतली, सिरदर्द, थकान, उल्टी, दस्त और निर्जलीकरण शामिल हैं. ये खराब भोजन लेने के बाद कई घंटों से लेकर कुछ दिन तक दिखाई दे सकते हैं. उदाहरण के लिए, साल्मोनेला बैक्टीरिया 4-7 दिनों के बाद, 12 घंटे से 3 दिन तक बीमारी का कारण बन सकता है.

Health Tips: ठंड के मौसम में इन उपायों को अपनाकर रहें स्वस्थ

फूड पॉइजनिंग का इलाज लें लिक्विड डाइट
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि फूड पॉइजनिंग का इलाज करने का सबसे आम तरीका है कि आप बहुत सारे तरल पदार्थ पीएं. बीमारी आमतौर पर कुछ दिनों में कम हो जाती है. हालांकि, कुछ बुनियादी कदमों के साथ स्वच्छता बनाए रखना भी जरूरी है. सबसे महत्वपूर्ण है हाथ धोना. खुले में शौच से बचना चाहिए और उपभोग से पहले फलों और सब्जियों को साफ पानी से धोया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हालांकि फूड प्वॉइजनिंग के लक्षण लगभग 48 घंटों में गायब हो जाते हैं, लेकिन फिर भी निम्न युक्तियां स्थिति से मुकाबला करने में मदद कर सकती हैं.

Tips: हेल्दी लाइफ का खजाना है पनीर, जानें 5 फायदे

कुछ घंटों के लिए खाना-पीना बंद कर दें
डॉ. अग्रवाल ने फूड पॉइजनिंग से बचने के लिए कुछ सुझाव देते हुए कहा कि अपने पेट को व्यवस्थित होने दें. कुछ घंटों के लिए खाना-पीना बंद कर दें. बर्फ के चिप्स चूसने या पानी के छोटे घूंट लेने की कोशिश करें. जब आप सामान्य रूप से मूत्र त्याग कर रहे होते हैं और आपका मूत्र स्पष्ट और डार्क नहीं होता है, तो इसका मतलब है कि शरीर पर्याप्त हाइड्रेटेड है. उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे खाना शुरू करें. कम वसा वाले, आसानी से पचने वाले खाद्य पदार्थ, जैसे कि टोस्ट, केला और चावल खाना शुरू करें. अगर आपको फिर से मतली होने लगे तो खाना बंद कर दें. जब तक आप बेहतर महसूस नहीं करते, तब तक कुछ पेय और खाद्य पदार्थो से बचें. इनमें डेयरी उत्पाद, कैफीन, शराब, निकोटीन, और वसायुक्त या अत्यधिक तले हुए खाद्य पदार्थ शामिल हैं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.