बीजिंग: बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं को दिल की बीमारी का खतरा उन महिलाओं से ज्यादा रहता है, जिनकी कोई संतान नहीं है. यह बात एक हालिया शोध में प्रकाश में आई है. पूर्व के अध्ययनों के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में अक्सर नाड़ी, रक्त की मात्रा, हृदय गति आदि में बदलाव दिखता है, हालांकि गर्भधारण करने से हृदय रोग होने की बात विवाद का विषय बनी हुई है. Also Read - Sunbath Benefits During Pregnancy: जानें क्यों प्रेग्नेंसी में जरूरी है धूप लेना, यहां पढ़े इससे मिलने वाले फायदे

Also Read - Pregnancy Tips: क्यों गर्भवती महिलाओं को सर्दियों में पीना चाहिए गर्म पानी, यहां जानें इससे जुड़ी बातें

गैस चैंबर बने महानगरों में खुद को रखना है Healthy तो ये करें उपाय Also Read - Planning For Second Child: अगर आप प्लॉन कर रही हैं दूसरा बच्चा, तो जानें आपको किन बातों का रखना है ध्यान

चीन के हुआझोंग यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलोजी की एक टीम ने हालिया शोध में 10 अध्ययनों की समीक्षा की, जिसमें दुनियाभर में 30 लाख महिलाओं को शामिल किया गया. शोध में 1.5 लाख महिलाओं में गर्भधारण के छह से 52 साल के दौरान दिल की बीमारी पाई गई. यूरोपियन सोसायटी ऑफ कार्डियोलोजी जर्नल में प्रकाशित हुए शोध के नतीजों में पाया गया कि बच्चे को जन्म देने से हृदय रोग व आघात का खतरा 14 फीसदी बढ़ जाता है.

‘मंकी फीवर’ है खतरनाक, इस राज्‍य में नौ लोगों की मौत, जानें इसके लक्षण?

ये होता है प्रभाव

विश्वविद्यालय के प्रमुख शोधकर्ता वांग डोंगमिंग के अनुसार, गर्भधारण करने से शरीर में जलन पैदा होती है और पेट के चारों ओर और खून व धमनियों में चर्बी जमा होने लगती है. उन्होंने कहा कि इस परिवर्तन से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर स्थायी प्रभाव पड़ता है, जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है.(इनपुट एजेंसी)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.