नई दिल्ली: भारत में घी का काफी इस्तेमाल किया जाता है. घी हमारे दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद होता है. घी हमारी सेहत के साथ साथ हमारी स्किन को भी काफी फायदा पहुंचाता है. घी को औषधि के बराबर दर्जा दिया गया है. खान-पान के अलावा पूजा-पाठ में भी इस्तेमाल किए जाने वाले घी को काफी सात्विक माना जाता है. आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ ही घी दिमाग को शांत रखने और पाचन क्रिया को सुचारु बनाए रखने के काम भी आता है. आज की जेनरेशन घी के सेवन से बचने लगे हैं. ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्हें घी खाना पसंद नहीं होता है. ऐसे में आप कोकोनल ऑयल का सेवन कर सकते हैं. वर्जिन कोकोनट ऑयल का सेवन करने से हेल्थ पर काफी अच्छा असर पड़ता है. यह तेल महिलाओं के लिए काफी फायदेमंद होता है. वर्जिन कोकोनल ऑयल को नारियल के गूदे को पीसकर बनाया जाता है इसमें किसी भी तरह के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता. ये साधारण नारियल तेल के मुकाबले ज्‍यादा फायदेमंद होता है. आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में-

चर्बी को करने में फायदेमंद- जो महिलाएं अपना वेट कम करना चाहते हैं उनके लिए वर्जिन कोकोनट ऑयल काफी फायदेमंद होता है. आप कुकिंग ऑयल के तौर पर वर्जिन कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल कर सकती हैं इससे कुछ ही दिनों में आपकी कमर के आस पास का फैट कम हो जाता है.

इन्फेक्शन को करता है दूर- बैक्‍टीरियल इन्‍फेक्‍शन को दूर करने में वर्जिन कोकोनट ऑयल मदद करता है, खासतौर पर डाइ‍जेस्टिव सिस्‍टम से संबंधित इन्‍फेक्‍शन में. इस तेल में एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटी-इंफ़्लेमेटरी गुण होते हैं जो इन्‍फेक्‍शन पैदा करने वाले बैक्‍टीरिया को मारने में मदद करते हैं.

स्किन एलर्जी को करता है दूर- यह त्वचा की एलर्जी जैसे एक्जिमा, सोरायसिस आदि को कम करने में मदद करता है. एलर्जी पर नारियल का तेल का उपयोग करना काफी सुरक्षित माना जाता है. इस ऑयल में एंटी-इंफ़्लेमेटरी गुण होते हैं, जिससे इन्‍फेक्शन से पैदा होने वाले बैक्‍टीरिया को मारने में मदद मिलती है.

अल्जाइमर रोग होता है दूर- वर्जिन कोकोनट ऑयल अल्जाइमर रोग में भी काफी उपयोगी होता है. इसमें एमसीटीएस की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है और यह सूजन को कम करने और ब्रेन सेल्‍स को एनर्जी प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं. यह अल्जाइमर रोग और मिर्गी में सुधार करने में फायदेमंद होता है.