नई दिल्ली: ब्राउन राइस का इस्तेमाल अधिकतर हेल्थ से जुड़ी चीजों के लिए किया जाता है. ब्राउन राइस आमतौर पर खाए जाने वाले व्हाइट राइस से थोड़े अलग होते हैं. अधिकतर लोग ब्राउन राइस इसलिए भी खाना पसंद करते हैं क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है जिससे यह वजन को बढ़ने नहीं देता. ब्राउन राइस में व्हाइट राइस की तुलना में कहीं अधि‍क फाइबर पाए जाते हैं. अगर सेहत की बात करें तो विशेषज्ञ भी मानते हैं कि व्हाइट राइस की तुलना में ब्राउन राइस खाना ज्यादा फायदेमंद होता है. लेकिन क्या आपको पता हैं कि वजन कम करने के अलावा ब्राउन राइस के और भी कई फायदे होते हैं. आज हम आपको उन्हीं फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं उनके बारे में-

कैंसर से बचाव- ब्राउन राइस खाने से कैंसर से काफी हद तक बचाव हो सकता है. दरअसल, इसमें पाया जाने वाला फाइबर व अन्य कुछ तत्व कैंसर से लड़ने व उससे बचाव में अहम भूमिका निभाते हैं.

कोलेस्ट्रॉल को करता है कम- ब्राउन राइस में पाया जाने वाला फाइबर कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है. साथ ही यह पाचन तंत्र के माध्यम से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है. इसके अतिरिक्त यह रक्त के थक्के बनने से भी रोकता है.

हड्डियों के विकास में मददगार- ब्राउन राइस में मैंगनीज की मात्रा अधिक होती है. एक कप ब्राउन राइस के सेवन से एक व्यक्ति को प्रति दिन जरूरी मैंगनीज का 88 फीसदी तक मिल सकता है. हमारे शरीर की हड्डियों के विकास में मैंगनीज का मुख्य योगदान होता है.

मधुमेह के रोगियों के लिए भी फायदेमंद- ब्राउन राइस खाने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ता नहीं है. रोजाना ब्राउन राइस खाने से डायबिटीज होने का खतरा भी काफी कम हो जाता है. इसमें फाइबर की उच्च मात्रा होती है, इसलिए जब इसका सेवन किया जाता है तो इसे पचने में काफी समय लगता है. जिसके कारण रक्त में ग्लूकोज की मात्रा जल्दी से नहीं बढ़ती और मधुमेह नियंत्रित रहता है.

मोटापा करता है कम- रिफाइन्ड राइस की जगह ब्राउन राइस खाने से वजन कम करने में मदद मिल सकती है. इसके पीछे की वजह है- व्हाइट राइस के मुकाबले ब्राउन राइस में ज्यादा फाइबर और पोषक तत्व होना. एक कप ब्राउन राइस में जहां 3-5 ग्राम फाइबर होता है, वहीं व्हाइट राइस में सिर्फ 1 ग्राम फाइबर पाया जाता है.