Health Tips:  कई बार रातभर सोने के बाद भी आप सुबह थके हुए उठते हैं. रात में पूरी नींद लेने के बाद भी सुबह कुछ लोगों को छकान और गर्दन में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ता है. ऐसे में तकिया आपकी परेशानी की वजह हो सकता है. खराब क्वॉलिटी का तकिया इस्तेमाल करने से आपकी मांसपेशियों में दर्द की समस्या हो सकती है. ऐसे में आज हम आपको तकिए से जुड़ी कुछ बातें बताने जा रहे हैं जिनका आपको ध्यान रखना काफी जरूरी है. आइए जानते हैं-Also Read - Health Benefits Of Rajma: डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है राजमा, पढें र‍िपोर्ट

शेप की करें जांच- अगर आपके तकिए में गांठे पड़ गई हैं और उसके अंदर की रूई सिमटकर एक जगह आ जाती है तो जरूरी है कि आप ऐसे तकिए को बदल लें. Also Read - Health Tips: Covid-19 से लड़ने के लिए Immunity बढ़ाना है बेहद ज़रूरी, इन 3 Step Mantra से करें अपनी इम्युनिटी बूस्ट

तकिया बदलने का ये है सही समय- तकिए की लगभग 18 से 24 महीने बाद चेंज कर लेना चाहिए. हर दो साल में अपना तकिया जरूर बदल लें. Also Read - Tips: 40 की उम्र के बाद भी रहेंगे एकदम फिट, बस लाइफस्टाइल में कर लें ये बदलाव

किस तरह का हो तकिया- तकिया ऐसा होना चाहिए जो सोते समय आपकी पीठ और गर्दन को सहारा दे. ऐसे तकिए का इस्तेमाल ना करें जो बहुत ज्यादा कठोर, लंबा या फिर नरम हो. इससे आपकी पीठ और गर्दन पर बुरा असर पड़ता है. साथ ही ऐसा तकिया चुनें जो सिर को थोड़ा ऊंचा रखते हुए आपकी गर्दन, पीठ, सिर और कंधों को सपोर्ट दे.

इस तरह करें तकिए का टेस्ट- 30 सेकेंड्स तक दबाकर छोड़ दें. यदि तकिया दोबारा अपनी शेप नहीं लेता, तो समझ जाएं कि आपको अपना तकिया बदलने की जरूरत है.