नई दिल्ली: हेल्दी रहने के लिए लोग गाय और भैंस के दूध का सेवन करते हैं. माना जाता है ति गाय औौर भैंस के दूध में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि नारियल का दूध भी हमारी सेहत के बाकी दूध की तरह की काफी फायदेमंद होता है. एक शोध में पाया गया है कि पशुओं के दूध में लैक्टोज पाया जाता है. जो कि एक प्रकार का शुगर एलिमेंट है. जिसे पचा पाना काफी मुश्किल होता है. वहीं, नारियल के दूध (coconut milk) में लैक्टोज नहीं पाया जाता. आज हम आपको नारियल के दूध से होने वाले कुछ फायदों के बारें में बताने जा रहे हैं. जो आपको इसके बारे में जानने में काफी मदद कर सकते हैं. Also Read - अब घर बैठे अपने यूरिन के कलर को देख आप भी जान सकते हैं बीमारियों के बारे में, ऐसे करें पहचान

त्वचा को मिलती है नमी- नारियल का दूध पीने से त्वचा काफी सॉफ्ट बनती है. नारियल में मॉइस्चराइजिंग गुण पाए जाते हैं जिस कारण इसके सेवन से त्वचा नरम और चमकदार बनती है. आप नारियल के दूध का इस्तेमाल फेस पैक के तौर पर भी कर सकती हैं. Also Read - Men's Health: कोरोना काल में इन दो चीजों का नियमित रूप से जरूर सेवन करें पुरुष

मां के दूध जितना हेल्दी- एक प्रसिद्ध अमेरिकी पोषण विशेषज्ञ जोश एक्स के मुताबिक मलेशिया, थाईलैंड, श्रीलंका और वियतनाम जैसे देशों में शिशु को मां का दूध न मिल पाने की स्थिति में गाय के दूध की जगह नारियल का दूध दिया जाता है. और यह मां के दूध जितना ही हेल्दी होता है. Also Read - Health Tips: पानी पीने की ये टाइमिंग और तरीके बढ़ा सकते हैं आपका वजन, इन बातों का रखें ध्यान

वजन करता है कम- एक अध्ययन के मुताबिक, नारियल के दूध में कई ऐसे फैटी एसिड पाए जाते हैं जो वजन कम करने में मदद करते हैं. इसलिए नारियल के दूध का सेवन करके वजन को घटाने में मदद मिल सकती है. वजन को कम करने के लिए आप वेट लॉस टिप्स को अपना सकते हैं और नारियल के दूध का सेवन भी कर सकते हैं.

इम्‍युनिटी बूस्‍ट करता है – नारियल के दूध में विटामिन्‍स और मिनरल्‍स होते हैं, जो एक बच्चे के समग्र विकास के लिए आवश्यक हैं. इसमें मौजूद विटामिन सी टिश्‍यू और रेड ब्‍लड सेल्‍स की मरम्‍मत और विकास में मदद करता है. जिससे कि यह आपकी इम्‍युनिटी को बूस्‍ट करने में मददगार माना जाता है.

मस्तिष्‍क के विकास को बढ़ावा – नारियल के दूध में हाई फैट होता है, इसमें सैचुरेटेड फैट, मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसेचुरेटेड होते हैं. अच्छी वसा की उपस्थिति आपके बच्चे के मस्तिष्क के विकास में मदद करती है.