नई दिल्ली:    जन्माष्टमी के मौक पर भगवान कृष्ण को कई करह के भोग लगाए जाते हैं. रात के 12 बजते ही जैसे ही भगवान कृष्ण का जन्म होता है उन्हें धनिए की पंजीरी का भोग लगाया जाता है. आपको बता दें कि धनिए से बनने वााली ये पंजीरी स्वाद में भी काफी अच्छी होती ही है लेकिन सेहत के लिए भी यह किसी वरदान से कम नहीं होती. आइए जानते हैं धनिए की पंजीरी से मिलने वाले फायदों के बारे में-Also Read - Health Benefits Of Rajma: डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है राजमा, पढें र‍िपोर्ट

– गठिया के मरीजों के लिए धनिया की पंजीरी बेहद फायदेमंद होती है. रोजाना इस पंजीरी को खााने से जल्द ही आपको गठिया से निजात दिलाने में मदद करेगा. Also Read - Health Tips: Covid-19 से लड़ने के लिए Immunity बढ़ाना है बेहद ज़रूरी, इन 3 Step Mantra से करें अपनी इम्युनिटी बूस्ट

– आंखों के लिए यह बेहद फायदेमंद है. आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए नियमित रूप से पंजीरी का सेवन करना लाभप्रद है. इससे आंखें स्वस्थ रहती हैं. Also Read - Tips: 40 की उम्र के बाद भी रहेंगे एकदम फिट, बस लाइफस्टाइल में कर लें ये बदलाव

– पाचन के लिए धनिया चबाना लाभदायक है. यह पाचन तंत्र को बेहतर करने के साथ-साथ गैस और अ पच जैसी समस्याओं से निजात दिलाता है.

– शरीर में कहीं भी जल एवं वायु का दबाव घट-बढ़ सकता है. इससे स्वास्थ्य-समस्या और कुरूपता दोनों ही बढ़ सकती है. धनिया इससे बचाव में अत्यंत कारगर है.

– पंजीरी दिमागी तरावट, मस्तिष्क संबंधी समस्याओं के लिए फायदेमंद है और यह दिमाग को ठंडा रख उसकी कार्यक्षमता को बढ़ाती है. धनिया को शुद्ध देसी घी में सेंककर मिस्री के साथ मिलाकर बनाई जाती है.

– धनिया पंजीरी मीठी और सुस्वाद होकर भी कफ एवं वात के दोष नहीं बढ़ाती है. इसके विपरीत सामान्य आटा पंजीरी या अन्य मीठे पदार्थ से व्रत पूर्ण किया जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए अहितकर हो सकता है.